समाचार
केंद्र सरकार ने चीनी कंपनियों के होने के कारण रद्द किए बिहार में गंगा सेतु के ठेके

चीन को एक और झटका देते हुए केंद्र सरकार ने रविवार (28 जून) को बिहार में गंगा नदी पर पर बनने वाली एक बहुत बड़ी सेतु परियोजना के ठेके को रद्द कर दिया है क्योंकि इसमें चीनी कंपनियों की भागीदारी थी।

टाइम्स ऑफ इंडिया की रिपोर्ट के अनुसार, कुल चार ठेकेदारों में से कुछ चीनी फर्में भी थीं, जिन्होंने 5.6 किमी लंबे पुल के साथ-साथ कई अन्य छोटे पुलों, अंडरपासों और एक रेल ओवरब्रिज के निर्माण का ठेका हासिल किया था।

कुल मिलाकर इस परियोजना की कीमत 2,900 करोड़ रुपये थी। पिछले वर्ष 16 दिसंबर को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में आर्थिक मामलों की कैबिनेट समिति ने इस परियोजना को स्वीकृति दी थी।

जनवरी 2023 तक इस परियोजना को पूरा किया जाना था। केंद्र सरकार ने इसके लिए कुल 3.5 वर्ष का समय दिया था। इसमें चार वाहन अंडरपास, एक रेल ओवरब्रिज, 1.58 किलोमीटर लंबे पुल, चार मामूली पुल, पाँच बस शेल्टर और 13 सड़क जंक्शनों के अलावा मुख्य पुल का निर्माण शामिल हैं।