समाचार
कश्मीर में बंद पड़े 50,000 मंदिरों को खुलवाने के लिए केंद्र सरकार करवाएगी सर्वेक्षण

केंद्र सरकार ने जम्मू-कश्मीर में बंद पड़े मंदिरों और स्कूलों को पुन: खुलवाने को लेकर एक सर्वेक्षण करवाने का आदेश दिया है। यह जानकारी सोमवार (23 सितंबर) को गृह राज्यमंत्री जी किशन रेड्डी ने दी।

अमर उजाला की रिपोर्ट के अनुसार, बेंगलुरु में केंद्रीय मंत्री ने कहा, “हमने कश्मीर घाटी में बंद स्कूलों की संख्या का सर्वेक्षण करने और उन्हें फिर से खोलने के लिए समिति का गठन किया है। बीते कुछ वर्षों में घाटी के करीब 50,000 मंदिर बंद करवा दिए गए या फिर उन्हें नष्ट कर दिया गया था। मंदिरों की मूर्तियों को क्षतिग्रस्त किया गया। उन्हीं का पता लगाने के लिए सर्वेक्षण करवाने का आदेश दिया गया है।”

केंद्र सरकार का जम्मू-कश्मीर में फिर से बंद मंदिरों को खुलवाने का आदेश तब आया, जब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अमेरिका में कश्मीरी पंडितों से मुलाकात की थी। कश्मीरी पंडितों का प्रतिनिधित्व करने वाले सुरिंदर कौल ने अनुच्छेद 370 को समाप्त करने के निर्णय पर ह्यूस्टन में नरेंद्र मोदी का स्वागत किया था।

बता दें कि 1990 के दशक में जम्मू-कश्मीर में आतंकवाद का दौर शुरू होने के बाद घाटी से लाखों की संख्या में कश्मीरी पंडितों को पलायन के लिए मजबूर होना पड़ा था। आतंकियों ने बड़े पैमाने पर कश्मीरी पंडितों की हत्या की थी और तमाम मंदिरों को क्षतिग्रस्त कर दिया था। पंडितों के पलायन के बाद घाटी में कई मंदिर बंद हो गए थे।