समाचार
कोलकाता में नकली टीकाकरण के मामले की रिपोर्ट केंद्र ने ममता बनर्जी प्रशासन से मांगी

कोलकाता पुलिस के गत सप्ताह नकली टीकाकरण का खुलासा करने के पश्चात केंद्र सरकार ने मंगलवार (29 जून) को ममता बनर्जी प्रशासन से 1 जुलाई तक मामले की रिपोर्ट मांगी है।

हिंदुस्तान लाइव की रिपोर्ट के अनुसार, केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव ने पश्चिम बंगाल के मुख्य सचिव को भेजे पत्र में अनुरोध किया कि मामले की तत्काल जाँच करवाई जाए। गंभीर आरोपों के बारे में तथ्यात्मक स्थिति स्पष्ट की जाए। अगर आवश्यकता पड़े तो कड़ी कार्रवाई की जाए। साथ ही दो दिन में केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय को भी एक रिपोर्ट भेजी जाए।

25 जून को शुभेंदु अधिकारी ने केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ हर्षवर्धन को पत्र लिख मामले की केंद्रीय जाँच करवाने की मांग की थी। कोलकाता पुलिस ने एक विशेष जाँच दल का गठन किया है। अब तक छह लोगों को गिरफ्तार किया जा चुका है।

भाजपा का आरोप है कि मिथ्या टीकाकरण के रैकेट के मुख्य आरोपी देबंजन देब की मंत्रियों, सांसदों और विधायकों सहित वरिष्ठ टीएमसी नेताओं से घनिष्ठता थी। इसके कुछ चित्र भी सामने आए हैं। हालाँकि, टीएमसी नेताओं ने ऐसे आरोपों का खंडन किया है।

बता दें कि टीएमसी सांसद मिमी चक्रवर्ती सहित सैकड़ों लोगों को संदेह है कि उनको कोलकाता में चल रहे फर्जी टीकाकरण शिविरों में एमिकासिन नामक एंटीबायोटिक का इंजेक्शन लगाया गया था। इसके पीछे 28 वर्षीय एक युवक बताया जा रहा है, जिसनें फर्जी आईएएस बनकर टीकाकरण करवाया था।