समाचार
सीबीआई पूर्व निदेशक आलोक वर्मा के विरुद्ध केंद्र सरकार ने की कार्रवाई की सिफारिश

भ्रष्टाचार के मामले में सीबीआई के पूर्व निदेशक आलोक वर्मा पर कार्मिक विभाग और गृह मंत्रालय ने कार्रवाई की सिफारिश की है। आरोप है कि उन्होंने ज़िम्मेदारी भरे पद पर रहते हुए नियमों का उल्लंघन किया था।

हिंदुस्तान लाइव की रिपोर्ट के अनुसार, केंद्रीय गृह मंत्रालय और कार्मिक विभाग ने संघ लोक सेवा आयोग (यूपीएससी) से कहा कि वह आलोक वर्मा के विरुद्ध पद के दुरुपयोग को लेकर कार्रवाई करे।

कहा जा रहा है कि केंद्र सरकार ने पूर्व सीबीआई निदेशक के विरुद्ध भ्रष्टाचार के आरोपों का संज्ञान लिया और दावा किया कि उन्होंने पद का दुरुपयोग किया था। साथ ही अपने कार्यालय में सरकारी नियमों का भी उल्लंघन किया। ऐसे में उन पर जुर्माना लगाए जाने की सिफारिश की गई है। यदि सिफारिशें मान ली जाती हैं तो आलोक वर्मा की पेंशन व सेवानिवृत्ति के बाद मिलने वाली अन्य सुविधाओं पर प्रभाव पड़ेगा।

बता दें कि 2018 में सीबीआई के तत्कालीन विशेष निदेशक राकेश अस्थाना ने उन पर घूस लेने के आरोप लगाए थे। सीबीआई ने एक मामले को समाप्त करने के लिए राकेश अस्थाना के विरुद्ध दो करोड़ रुपये घूस लेने का मामला दर्ज किया था। इसके उपरांत, उन्होंने कई अन्य मामलों में आलोक वर्मा के विरुद्ध भी घूस लेने के आरोप लगाए थे।

वहीं, आलोक वर्मा का नाम उन संभावितों की सूची में सम्मिलित है, जिनकी पेगासस सॉफ्टवेयर के माध्यम से जासूसी की गई थी।