समाचार
सीबीआई ने रिवर फ्रंट घाटोले में 40 ठिकानों पर की छापेमारी, 190 पर प्राथमिकी दर्ज

सीबीआई ने सपा शासन में बनवाए गए गोमती रिवर फ्रंट में हुए घोटाले को लेकर सोमवार (5 जुलाई) को उत्तर प्रदेश, राजस्थान और पश्चिम बंगाल के 40 ठिकानों पर एकसाथ छापेमारी की। इनमें लखनऊ, कोलकाता, अलवर, सीतापुर, रायबरेली, गाजियाबाद, नोएडा, मेरठ, बुलंदशहर, इटावा, अलीगढ़, एटा, गोरखपुर, मुरादाबाद और आगरा आदि हैं।

न्यूज़-18 की रिपोर्ट के अनुसार, घाटोले में 190 लोगों के विरुद्ध प्राथमिकी दर्ज की गई है। इनमें कई अधीक्षक अभियंता और अधिशासी अभियंता सम्मिलित हैं।

सीबीआई लखनऊ की भ्रष्टाचार निरोधक शाखा ने योगी सरकार के निर्देश पर सिंचाई विभाग की ओर से लखनऊ के गोमतीनगर थाने में दर्ज प्राथमिकी को आधार बनाकर 30 नवंबर 2017 में नई प्राथमिकी दर्ज की थी।

सीबीआई जाँच कर रही है कि 1513 करोड़ रुपये के बजट वाली परियोजना की राशि निर्धारित कार्य पूरा किए बिना कैसे 95 प्रतिशत (1437 करोड़ रुपये) खर्च हो गई। अब भी 60 प्रतिशत काम पूरा नहीं हो पाया है। जिस कंपनी को यह काम दिया गया था, वह भी दिवालिया घोषित हो चुकी है।

बता दें कि योगी आदित्यनाथ के सत्ता में आने के बाद घोटाले को लेकर सरकार ने न्यायिक जाँच बैठा दी थी। इलाहाबाद उच्च न्यायालय के सेवानिवृत्त न्यायाधीशी आलोक सिंह की अध्यक्षता में गठित समिति ने जाँच में दोषी पाए गए अभियंताओं और अधिकारियों के विरुद्ध प्राथमिकी दर्ज करवाने की सिफारिश की थी।

इसके उपरांत सिंचाई विभाग के अधिशासी अभियंता डॉ अंबुज द्विवेदी ने लखनऊ के गोमतीनगर थाने में धोखाधड़ी सहित कई धाराओं में प्राथमिकी दर्ज करवाई थी। बाद में यह मामला केंद्रीय अन्वेषण ब्यूरो (सीबीआई) को सौंप दिया गया था।