समाचार
पादरी से पुलिस को मिले 9.66 करोड़ रुपये, सेंट जोसेफ स्कूल में सामान का था तंत्र

उत्तरी भारत के मशहूर विद्यालय सेंट जोसफ के डायरेक्टर और पादरी समेत छह लोगों से पुलिस ने 9.66 करोड़ की नगद राशि बरामद की है। पादरी ऐंथनी पंजाब एवं हिमाचल के कैथलिक स्कूलों पूरा हिसाब-किताब रखते थे।

मामले की जांच में सामने आया है कि पादरी की तीन निजी कंपनियाँ भी है। फादर ने जिन तीन कंपनियों को स्थापित किया है वह निधि, सहोदया और नवजीवन है यह कंपनियां स्कूलों में बड़ी से बड़ी और छोटी से छोटी चीज़े सप्लाई करती हैं। स्कूलों में पुस्तकों से लेकर पोषाक और यहाँ तक कि सेनेटरी पैड की भी आपूर्ति इन्हीं कंपनियों द्वारा करवाई जाती है।

खबर है कि खन्ना पुलिस ने एंथनी से 9.66 करोड़ रुपये बरामद किए थे। लेकिन वहीं खन्ना पुलिस पर 6.5 करोड़ रुपये गबन करने का भी आरोप है। मामले की जांच को आगे बढ़ाने के लिए डीजीपी दिनकर ने यह ज़िम्मेदारी आईजी क्राइम प्रवीण कुमार सिन्हा को सौंप दी है।

फादर एंथनी  का कहना है कि बरमाद की गई नगद राशि सहोदया की है और वह उसे बैंक में जमा करवाने वाले थे। जांच के दौरान सामने आया है कि स्कूलों में अगर किसी भी तरह के भवन का निर्माण करना होता था तो एंथनी की कंपनी के द्वारा ही ईंट से लेकर सीमेंट अदि सामान की आपूर्ति करवाई होती थी।

मामले की जानकारी के लिए जांच को आगे बढ़ाया जा रहा है और यह पता लगाया जा रहा है की पादरी के घर पर 16 करोड़ नगद राशि मौजूद होने की वजह क्या हो सकती है। सरकार द्वारा 20,000 रुपये तक की राशि के लेन-देन की अनुमति है तो ऐसे में 16 करोड़ की नगद राशि के राज़ का खुलासा करने के लिए सिन्हा जांच को आगे बढ़ा रहे हैं।