समाचार
सरकार के नियम के कारण कैंसर-विरोधी दवाएँ अब 87 प्रतिशत तक सस्ती- एनपीपीए

राष्ट्रीय औषध मूल्य निर्धारण प्राधिकरण (एनपीपीए) द्वारा जारी किए गए डाटा के अनुसार गैर-अनुसूचित कैंसर-विरोधी दवाओं के दाम सरकार द्वारा ऐसी दवाओं के लिए लाभ सीमा बनाए जाने के बाद 87 प्रतिशत तक कम हो गए हैं।

“रसायन एवं उर्वरक मंत्रालय के अधीन आने वाले एनपीपीए ने 390 गैर-अनुसूचित कैंसर-विरोधी दवाओं की सूची जारी की जिनके दाम 87 पर्तिशत तक घटे हैं। ये नए दान 8 मार्च 2019 से लागू किए गए हैं।”, सरकारी कथन में कहा गया।

27 फरवरी 2019 को एनपीपीए ने 42 कैंसर-विरोधी दवाओं की लाभ सीमा को 30 प्रतिशत तक सीमित कर दिया था और अस्पतालों से कहा गया था कि वे नए दामों के विषय में उपभोक्ताओं को बताएँ। बाज़ार में बिक रहे 426 ब्रांडों में से 390 ब्रांडों की सीमा तय करने का अर्थ है 91 प्रतिशत विनियमन।

बड़ी बचत

“किसी अन्य बीमारी की तुलना में औसत रूप से कैंसर में ढाई गुना अधिक खर्च होता है। इस प्रयास से देश के 22 लाख कैंसर मरीजों को लाभ पहुँचेगा और सभी ग्राहकों की कुल 800 करोड़ रुपये की बचत होगी।”, सरकारी कथन में उल्लेखित था।

विनियमन के साथ इन ब्रांडों से यह भी कहा गया है कि इन 42 दवाओं के उत्पादन में किसी प्रकार की कटौती नहीं की जाए।