समाचार
ममता बनर्जी के भतीजे की पत्नी को कस्टम अधिकारियों के समक्ष होना होगा प्रस्तुत

कोलकाता उच्च न्यायालय ने पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री और तृणमूल कांग्रेस प्रमुख ममता बनर्जी के भतीजे अभिषेक बनर्जी की पत्नी को कोलकाता के सीमा शुल्क कार्यालय में 8 अप्रैल को पेश होने का आदेश दिया है। साथ ही कोर्ट ने कस्टम को किसी तरह का बल प्रयोग न करने के लिए कहा है। दरअसल, अभिषेक की पत्नी रूबिरा नरूला 15-16 मार्च को कथित रूप से कोल एयरपोर्ट पर बिना सूचना के दो किलो सोना ले जा रही थीं।

टाइम्स ऑफ इंडिया  की रिपोर्ट के अनुसार, कस्टम विभाग ने अभिषेक की पत्नी के खिलाफ समन जारी किया था। इसके बाद रूबिरा की ओर से हाईकोर्ट में समन को चुनौती दी गई थी, जिस पर उन्हें पेश होने का आदेश दिया गया है।

ममता बनर्जी के भतीजे व तृणमूल कांग्रेस सांसद अभिषेक बनर्जी ने कहा है कि अगर उनकी पत्नी पर लगे आरोप साबित होते हैं, तो वह राजनीति से संन्यास ले लेंगे। इससे पहले सर्वोच्च न्यायालय ने शारदा चिटफंड घोटाले की सुनवाई के दौरान सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता से इस मामले में अलग से आवेदन देने को कहा था।

सर्वोच्च न्यायालय में मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई की अध्यक्षता वाली पीठ को सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने बताया, “पश्चिम बंगाल में एक संवैधानिक अराजकता है। केंद्रीय प्रवर्तन एजेंसियों में भय का माहौल है। उक्त महिला को कस्टम अधिकारियों ने सामान की जांच करने के लिए रोका। उसके बाद महिला ने कहा कि वह एक सत्तारूढ़ दल के सांसद की पत्नी है। इसके बाद अचानक स्थानीय पुलिस आने लगती है और कस्टम अधिकारियों को अपने कर्तव्यों को पूरा करने से रोकने लगती है।”