समाचार
कैग ने केजरीवाल सरकार के 30 दिन में 1,000 करोड़ से अधिक खर्च करने पर उठाए प्रश्न

नियंत्रक एवं महालेखा परीक्षक (कैग) ने दिल्ली सरकार को वित्तीय नियमों की धज्जियाँ उड़ाते हुए 30 दिनों के भीतर जल्दबाजी में 1,000 करोड़ रुपये से अधिक खर्च किए जाने पर सवाल खड़े करते हुए फटकार लगाई है।

इकोनॉमिक टाइम्स की रिपोर्ट के अनुसार, मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल की अगुआई वाली राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र दिल्ली (जीएनसीटीडी) की सरकार पर सवाल खड़े करते हुए कैग ने कहा, “सरकार ने स्वास्थ्य, शिक्षा, शहर के विकास और सामाजिक कल्याण सहित 26 मदों में नियमों की धज्जियाँ उड़ाई हैं।”

कैग ने ‘2017-18 के बीच दिल्ली सरकार के राज्य वित्तीय प्रबंधन’ शीर्षक वाली रिपोर्ट में रेखांकित किया कि 2017-18 में 26 मदों में कुल 1,404.51 करोड़ रुपये खर्च किए गए थे। इनमें से मार्च 2018 के आखिरी महीने में ही 1,064.55 करोड़ रुपये की भारी भरकम राशि खर्च की गई।

2 दिसंबर को लोकसभा में जो रिपोर्ट पेश की गई थी, उसमें मुख्यमंत्री केजरीवाल के नियमों की अनदेखी की ओर इशारा किया गया था। इसमें पूरे साल के अचानक एक महीने में इतनी जल्दबाजी में राशि खर्च करने पर संदेह जताया गया था।