समाचार
सर्वोच्च न्यायालय का भ्रामक ट्वीट पर शशि थरूर सहित 6 पत्रकारों की गिरफ्तारी पर रोक

सर्वोच्च न्यायालय ने कांग्रेस सांसद शशि थरूर और पत्रकार राजदीप सरदेसाई, विनोद के जोस, जफर आगा, मृणाल पांडे, परेश नाथ व आनंद नाथ के गणतंत्र दिवस पर नई दिल्ली में किसानों की हिंसक ट्रैक्टर परेड के दौरान उनके द्वारा किए गए असंवेदनशील ट्वीट्स को लेकर की जा रही गिरफ्तार पर रोक लगा दी।

लाइव लॉ की रिपोर्ट के अनुसार, मुख्य न्यायाधीश एसए बोबडे की अगुआई वाली पीठ ने उपरोक्त व्यक्तियों द्वारा दायर याचिकाओं पर आदेश पारित करने के बाद नोटिस जारी किया। उनकी याचिकाओं पर दो सप्ताह में पीठ द्वारा विचार किया जाएगा।

थरूर, सरदेसाई सहित अन्य लोगों पर गणतंत्र दिवस पर आंदोलनकारी किसानों द्वारा किए गए आक्रामक विरोध प्रदर्शन के दौरान एक व्यक्ति की मौत के बारे में गलत जानकारी देने का आरोप है।

याचिकाकर्ताओं की ओर से वकील कपिल सिब्बल ने सर्वोच्च न्यायालय की पीठ से अनुरोध किया कि वे अपने मुवक्किलों को जबरदस्ती कार्रवाई से अंतरिम संरक्षण दें क्योंकि उनका मानना ​​था कि विभिन्न राज्यों के पुलिस अधिकारी उन्हें गिरफ्तार कर सकते हैं।

इस बीच, मुख्य न्यायाधीश बोबडे ने सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता से दिल्ली पुलिस के लिए अपील करते हुए पूछा कि क्या वे संबंधित लोगों को गिरफ्तार करेंगे। तुषार मेहता ने मामले की सुनवाई बुधवार को करने का अनुरोध किया था। इसके जवाब में मुख्य न्यायाधीश ने कहा, “कल नहीं हम दो सप्ताह में इस पर सुनवाई करेंगे। हम अभी गिरफ्तारी पर रोक लगाएँगे।”