समाचार
‘नारी तू नारायणी’- महिलाओं के एसएचजी को ओवरड्राफ्ट में छूट और ऋण की सुविधा

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने लोकसभा में शुक्रवार को बजट प्रस्तुत करते हुए नारी के महत्त्व के बारे में बताते हुए नारी तू नारायणी कहा। साथ ही उन्होंने स्वामी विवेकानंद के समाज में महिलाओं की भूमिका पर विचार को व्यक्त किया, “महिलाओं की स्थिति में सुधार हुए बिना दुनिया का कल्याण संभव नहीं है। कोई भी पक्षी एक पंख के सहारे नहीं उड़ सकता।”

वित्त मंत्री ने लोकसभा में रिकॉर्ड 78 सांसदों का ध्यान आकर्षित किया, जो भारत के हाउस ऑफ द पीपल में सबसे अधिक है।

उन्होंने भारतीय उद्यमों खासकर कि स्वयं सहायता समूहों (एसएचजी) के रूप में महिलाओं की भूमिका की प्रशंसा की। उन्होंने देश के सभी जिलों में स्वयं सहायता समूहों के लिए ब्याज निवारण योजना के विस्तार की घोषणा की।

स्वयं सहायता समूह का हिस्सा रहने वाली महिला उद्यमियों को जन-धन खाते में 5,000 रुपये के ओवरड्राफ्ट की अनुमति दी जाएगी। प्रति एसएचजी में से एक महिला सदस्य को सरकार की मुद्रा योजना के तहत 1 लाख रुपये का ऋण भी दिया जाएगा।