समाचार
“सपा के साथ हमें लाभ नहीं हुआ”, मायावती ने गठबंधन तोड़ने के दिए संकेत

2019 में गठबंधन से लाभ उठाकर 10 सीटें जीतने के बावजूद बसपा ने सपा का साथ छोड़ अकेले चलने के संकेत दे दिए हैं। बसपा प्रमुख मायावती का मानना है कि पार्टी को अखिलेश यादव के साथ जुड़कर फायदा नहीं हुआ है।

दैनिक भास्कर  की रिपोर्ट के अनुसार, दिल्ली में मायावती ने लोकसभा चुनावों के नतीजों की समीक्षा की। उन्होंने उत्तर प्रदेश के पदाधिकारियों के साथ बैठक में कहा, “सपा से गठबंधन का फायदा नहीं हुआ। हमें यादवों के वोट नहीं मिले।”

सूत्रों की मानें तो मायावती ने बैठक में गठबंधन तोड़ने का इशारा करते हुए कहा, “सपा के साथ हम सोच-समझकर आए थे। इसके फायदे और नुकसान पता थे लेकिन साइकल के साथ जुड़कर हमें कोई फायदा नहीं हुआ। यादव वोट बसपा को नहीं मिले। अगर मिलते तो यादव परिवार के लोग न हारते।”

मायावती ने सपा ने गठबंधन के खिलाफ काम करने की बात कहीं। साथ ही मुसलमानों के भरोसा जताने पर खुशी जताई है। कहा यह भी जा रहा है कि अब प्रदेश की 11 विधानसभा सीटों पर होने वाले उप-चुनाव में बसपा अकेले ही चुनाव लड़ सकती है।