समाचार
भगवद् गीता पर हाथ रख ब्रिटेन में हिंदू सांसदों आलोक शर्मा, ऋषि सुनक ने ली शपथ

मंगलवार 17 दिसंबर को ब्रिटिश मंत्रिमंडल में मंत्री आलोक शर्मा और कोष के मुख्य सचिव ऋषि सुनक ने पवित्र भगवद् गीता पर हाथ रखकर संसद के सदस्य के रूप में शपथ ली।

हिंदुस्तान टाइम्स की खबर के अनुसार भारत में जन्मे शर्मा रीडिंग वेस्ट से चौथी बार चुनकर आए हैं जबकि इन्फोसिस के संस्थापक एनआर नारायण मूर्ति के दामाद ऋषि सुनक को यॉर्कशायर के रिचमंड निर्वाचन क्षेत्र से तीसरी बार चुना गया है।

हिंदुओं के पवित्र ग्रंथ भगवद् गीता की एक प्रति अपने हाथों में लिए शर्मा और सुनक ने शपथ के मानक शब्दों को कहा, “मैं (सदस्य का नाम) सर्वशक्तिमान ईश्वर की शपथ लेता हूँ कि मैं महामहिम रानी एलिजाबेथ और उनके उत्तराधिकारियों और वारिसों के प्रति, कानून के अनुसार ईमानदार और पूरी तरह से निष्ठावान रहूँगा। भगवान मेरी मदद करें।”

आपको बता दें कि ब्रिटेन के निचले और उच्च सदन के सदस्य ताज के प्रति निष्ठा रखने की शपथ लेते हैं।

ब्रिटिश इतिहास में पहली बार, 12 दिसंबर को ब्रिटेन में संपन्न हुए चुनावों में निचले सदन में चुनकर आए सदस्यों में ब्रिटिश मूल के जातीय अल्पसंख्यक समुदायों के सदस्यों की संख्या सबसे अधिक है, जिनमें 65 गैर-गोरे हैं। इनमें से 15 भारतीय मूल के सदस्य हैं।

गौरतलब है कि ब्रिटिश प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन ने हाथ में बाइबल पकड़े हुए शपथ ली और कहा, “मैं कहूँगा कि यह इस देश के इतिहास की सबसे अच्छी संसदों में से एक है, इस बार पहले से कहीं अधिक महिला सदस्यों के साथ पहले से कहीं अधिक गैर-गोरे और अल्पसंख्यक समुदाय के सदस्य भी हैं।”