समाचार
रूढ़ियों से आगे- भारत में गोद लिये गए बच्चों में 60 प्रतिशत बालिकाएँ

महिला एवं बाल विकास मंत्रालय द्वारा जारी किए गए डाटा के अनुसार भारत में 2015 से 2018 के बीच गोद लिए गए बच्चों में से 60 प्रतिशत लड़कियाँ हैं, द हिंदू  ने रिपोर्ट किया।

तीन वर्षों की इस अवधि में 11,649 बच्चों को गोद लिया गया जिसमें से 6,962 बालिकाएँ थीं व 4,687 बालक थे। इसके अलावा भारत से दूसरे राष्ट्रों में लिये गए गोद में 69 प्रतिशत लड़कियाँ थीं। भारत से 2,310 बच्चों को विदेशों में गोद लिया गया जिसमें से 1,594 भारतीय बालिकाएँ थीं।

“बालिकाओं को अधिक गोद लिये जाने की प्रवृत्ति राष्ट्र में बदलती मानसिकता की परिचायक है।”, केंद्रीय दत्तक ग्रहण संसाधन प्राधिकरण की सदस्या प्राजक्ता कुलकर्णी ने बताया। हालाँकि विशेषज्ञों का कहना है कि इस परिवर्तन के लिए अन्य कारकों पर भी ध्यान देना चाहिए।

ध्यान देने योग्य बात यह है कि राष्ट्रीय संघ बाल कोष (यूनिसेफ) के अनुसार भारत में 2.96 करोड़ बच्चे अनाथ या छोड़े हुए हैं और उनमें से मात्र कुछ ही गोद लिए जाते हैं क्योंकि बारत में अभी भी गोद लेने की दर बहुत कम है।