समाचार
भारत के गणतंत्र दिवस पर मुख्य अतिथि होंगे ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन

ब्रिटिश प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन इस बार भारत के गणतंत्र दिवस समारोह में मुख्य अतिथि होंगे। इसकी पुष्टि उनके विदेश सचिव डोमिनिक राब ने की। राब ने मंगलवार को विदेश मंत्री एस जयशंकर से मुलाकात के बाद यह घोषणा की। वह सोमवार (14 दिसंबर) की रात द्विपक्षीय दौरे पर भारत आए थे।

विदेश मंत्री एस जयशंकर ने कहा, “गणतंत्र दिवस समारोह में बोरिस जॉनसन की उपस्थिति भारत और ब्रिटेन के बीच रिश्तों के एक नए युग का प्रतीक है। मुझे बताते हुए खुशी हो रही कि बोरिस जॉनसन ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को ब्रिटेन की मेजबानी वाले जी-7 शिखर सम्मेलन में शामिल होने के लिए आमंत्रित किया है। यूके के प्रधानमंत्री ने भारत के गणतंत्र दिवस समारोह में भाग लेने के लिए बहुत ही उदार आमंत्रण स्वीकार किया है, जो एक महान सम्मान है।”

जॉनसन गणतंत्र दिवस के मुख्य अतिथि होने वाले ब्रिटेन के छठे व्यक्ति हैं। वह 1993 में जॉन मेजर के बाद पहले ब्रिटिश प्रधानमंत्री होंगे, जो समारोह में मुख्य अतिथि होंगे। इससे पूर्व, अतीत में, ब्रिटिश राजघराने के सदस्य मुख्य अतिथि रहे हैं। इनमें 1959 में प्रिंस फिलिप और 1961 में क्वीन एलिजाबेथ द्वितीय। ब्रिटिश चांसलर रेप बटलर (1956, जापान के पूर्व मुख्य न्यायाधीश कोटारो तनाका के साथ) और फिर तब के चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ लॉर्ड लुईस माउंटबेटन (1964)। लॉर्ड लुईस पहले भी मुख्य अतिथि रहे हैं।

कोविड-19 संक्रमण के दौरान भारत आने वाले कुछ विदेशी मंत्रियों में से एक राब हैं, जो बेंगलुरु की यात्रा कर रहे हैं। वह 17 दिसंबर तक भारत में रहेंगे। विदेश मंत्रालय ने कहा, “राब की यात्रा से दोनों देशों के बीच कोविड-19 और ब्रेक्जिट के बाद के परिदृश्य में कारोबार, रक्षा, जलवायु, आवागमन, शिक्षा, स्वास्थ्य के क्षेत्र में गठजोड़ के और भी मजबूत होने का मार्ग प्रशस्त होगा।