समाचार
अर्णब गोस्वामी की जमानत याचिका न्यायालय ने की खारिज, राज्यपाल ने जाना हालचाल

आत्महत्या के लिए उकसाने के पुराने मामले में गिरफ्तार किए गए रिपब्लिक टीवी के प्रधान संपादक अर्णब गोस्वामी की जमानत याचिका को बॉम्बे उच्च न्यायालय ने सोमवार (9 नवंबर) को खारिज कर दिया। न्यायालय ने उन्हें निचली अदालत में याचिका दायर करने को कहा है।

नवभारत टाइम्स की रिपोर्ट के अनुसार, मामले में अर्णब गोस्वामी के अलावा दो अन्य आरोपियों फिरोज खान और नीतेश सारदा को भी गिरफ्तार किया गया था। अर्णब ने अंतरिम जमानत की मांग की थी और गिरफ्तारी को अवैध बताते हुए उसे चुनौती दी थी।

उच्च न्यायालय की पीठ ने कहा, “याचिकाकर्ता को असाधारण क्षेत्राधिकार के तहत जमानत देने का कोई मामला नहीं बनता है।” अर्णब को मुंबई स्थित उनके आवास से रायगढ़ पुलिस ने गिरफ्तार किया था। उन्हें न्यायालय से 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया था।

उधर, महाराष्ट्र के राज्यपाल बीएस कोश्यारी ने राज्य के गृहमंत्री अनिल देशमुख से बात करके अर्णब के स्वास्थ्य और सुरक्षा के मुद्दे पर चर्चा की। उन्होंने कहा, “अर्णब को उनके परिवार से मिलने और बात करने की अनुमति दें।”

बता दें कि रविवार (8 नवंबर) को अर्णब गोस्वामी को अलीबाग से तलोजा जेल ले जाया गया। जेल जाने के दौरान उन्होंने कहा था कि उनकी जान को खतरा है। साथ ही कहा कि वकीलों से उन्‍हें मिलने नहीं दिया जा रहा है। उनके साथ मार-पीट भी की गई है।