समाचार
83 एलसीए तेजस मार्क-1ए जेट व 56 सी-295 विमानों के लिए आगामी महीनों में होंगे सौदे

भारतीय वायुसेना (आईएएफ) के लिए 83 हल्के लड़ाकू विमान (एलसीए) तेजस मार्क-1ए जेट विमानों के साथ टाटा एयरबस द्वारा निर्मित 56 सी-295 मध्यम-परिवहन विमान खरीदने के लिए बहुप्रतीक्षित सौदे अगले कुछ महीनों यानी इस वर्ष होने वाले हैं।

टाइम्स ऑफ इंडिया की रिपोर्ट के अनुसार, एलसीए तेजस का सौदा भारतीय सैन्य विमानन इतिहास में सबसे बड़ा स्वदेशी सौदा होगा।

एलसीए तेजस जेट के उन्नत संस्करण विमानों के लिए सौदा 37,000 करोड़ रुपये का होगा। 56 परिवहन जेट विमानों को खरीदने की लागत करीब 13,000 करोड़ रुपये आएगी। एलसीए तेजस जेट का निर्माण राज्य द्वारा संचालित हिंदुस्तान एयरोनॉटिक्स लिमिटेड (एचएएल) द्वारा किया जाएगा।

83 एलसीए तेजस लड़ाकू विमानों की आपूर्ति सौदे के लिए हस्ताक्षर होने के तीन वर्ष बाद शुरू होने की उम्मीद है। इसमें तेजस मार्क-1 की तुलना में 43 सुधार होंगे। वायुसेना पहले ही 40 तेजस मार्क-1 का ऑर्डर दे चुकी है।

एलसीए मार्क-1ए मूल मार्क 1 संस्करण की तुलना में अधिक बेहतर होगा। एलसीए का मार्क 1ए संस्करण मार्क 1 के करीब 40 बड़े और छोटे सुधारों के साथ आएगा।

सी-295 टाटा एयरबस सौदे में यह उम्मीद की जा रही है कि पहले 16 विमानों की आपूर्ति एयरबस द्वारा की जाएगी। उसके बाद अगले 40 विमान आठ वर्षों में भारत में बनाए जाएँगे।

10 साल से लंबित यह सौदा 40 साल पुराने एयरो विमान को बदलने और एएन-32 विमान बेड़े के भार को कम करने के लिए किया गया है।