समाचार
सौम्या संतोष का पार्थिव शरीर इज़रायल से भारत आया, हमास के हमले में गई थी जान

फिलिस्तीन के इस्लामी समूह द्वारा इज़रायल में दागे गए रॉकेट हमले में भारतीय नागरिक सौम्या संतोष का मौत हो गई थी। उनका पार्थिव शरीर शनिवार (15 मई) को भारत वापस लाया गया।

विदेश राज्य मंत्री वी मुरलीधरन ने एक ट्वीट में कहा, “भारी मन से मैंने दिल्ली में सौम्या संतोष के पार्थिव शरीर को प्राप्त किया और अंतिम दर्शन किए। इस दौरान इज़रायली दूतावास के सीडीए भी शामिल रहे। मैं सौम्या के परिवार के दर्द और पीड़ा के प्रति सहानुभूति रखता हूँ। ईश्वर उन्हें और ताकत दे।”

11 मई को रॉकेट एक घर पर गिरा था, जहाँ एक बुजुर्ग महिला और उनकी देखभाल करने वाली 32 वर्षीय सौम्या संतोष रहती थीं। हमले में सौम्या संतोष की मौत हो गई, जबकि 80 वर्षीय वृद्धा को गंभीर अवस्था में अस्पताल में भर्ती करवाया गया था।

संतोष केरल की रहने वाली थीं। कथित तौर पर वह अपने पीछे पति और एक नौ वर्ष का बच्चा छोड़ गई हैं। गाज़ा पट्टी में फिलीस्तीनी आतंकी समूहों ने विगत कुछ दिनों से मध्य और दक्षिणी इज़रायल पर भारी संख्या में रॉकेट दागे हैं।

इसके जवाब में इज़रायली रक्षा बलों ने गाज़ा पट्टी में आतंकी ठिकानों पर हवाई कार्रवाई की। फिलीस्तीनी आतंकी संगठन हमास ने कथित तौर पर दावा किया है कि 11 मई को एक बार में उसने करीब पाँच मिनट में 137 रॉकेट दागे, ताकि आयरन डोम मिसाइल रक्षा प्रणाली को तबाह किया जा सके।