समाचार
हिंदुओं को मारने का कहने वाले बिशॉप एर्ज़ा सरगुनम रजनीकांत को- “कब्र तक जाने तक”

तमिनाडु के रहने वाले विवादास्पद प्रचारक बिशॉप एर्ज़ा सरगुनम ने अपने ताजा साक्षात्कार में कहा कि रजनीकांत तब तक राजनीति में प्रवेश के बारे में बोलते रहेंगे जब तक कि वे कब्रिस्तान नहीं पहुँच जाते।

ऐसा कहा जाता है कि सरगुनम के डीएमके के साथ करीबी रिश्ते हैं और कई मौकों पर खासकर की चुनाव के समय वे डीएमके का समर्थन करते रहे हैं।

इसी साल जून में धर्माअध्यक्ष एर्ज़ा सरगुनम ने लोगों को संबोधित करते हुए बयान दिया था जहाँ वे लोगों से हिंदुओं को पीटने की अपील कर रहे हैं, “हिंदू धर्म जैसा कुछ नहीं है। दो-तीन बार उनके मुँह पर मुक्का मारो, उनका खून बहाओ और सच को समझने में उनकी मदद करो।”

इसी भाषण में वे हिंदू धर्म ना होने की बात करते हैं और इलका संदर्भ वे अंग्रेज़ सरकार की जनगणना बताते हैं।

“जनगणना करने वाले लोग बेहद दुविधा में थे कि वे कैसे किसी को हिंदू वर्गीकृत करें। समिति ने उन्हें हिंदू करार दिया जो ना मुस्लिम थे ना सिख ना बौद्ध ना ईसाई थे।”, एर्ज़ा सरगुनम ने कहा।

इसके बाद एर्ज़ा सरगुनम ने ईसाई भाइयों से कहा कि वह इस चुनौती को स्वीकार करें और और एक बात का प्रचार करें कि हिंदू नाम का कोई धर्म नहीं है।

इसके बाद बिशॉप ने बोला कि यदि कोई आपकी बात से सहमत ना हो उनके मुंह पर मुक्का मारो और ध्यान रहे कि उनका खून बहे। ऐसा करने के बाद उन्हें जीसस माफी माफी माफी मांगनी है उनके सभी गलतियाँ माफ हो जाएँगी।