समाचार
रवीश कुमार के भाई व दलित नाबालिग के दुष्कर्म के आरोपी ब्रजेश को कांग्रेस का टिकट

एनडीटीवी के एंकर रवीश के भाई और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता ब्रजेश कुमार पांडे बिहार में पुरी चंपारण जिले के गोविंदगंज विधानसभा क्षेत्र से पार्टी के उम्मीदवार होंगे।

फरवरी 2017 में एक दलित लड़की द्वारा यौन शोषण का आरोप लगाने के बाद ब्रजेश कुमार पांडे ने पार्टी के प्रदेश उपाध्यक्ष पद से इस्तीफा दे दिया था। उनके खिलाफ पॉस्को अधिनियम के तहत संगीन आरोप लगे थे।

पीड़िता दलित और पूर्व कांग्रेस मंत्री की बेटी थी। उसने पटना में एक युवा व्यवसायी निखिल प्रियदर्शी पुत्र सेवानिवृत्त आईएएस अधिकारी कृष्ण बिहारी प्रसाद पर दुष्कर्म और सेक्स रैकेट चलाने का आरोप लगाया था।

पीड़िता का आरोप था कि प्रियदर्शी ने उसे शादी के नाम पर धोखा दिया और अपने भाई, एक अन्य सह-आरोपी और ब्रजेश के साथ मिलकर उसे ब्लैकमेल किया। ब्रजेश, जो एक बड़े नेता के रूप में उससे परिचित था, उसे धमकी देता था। उसने उस पर सेक्स रैकेट में शामिल होने का भी आरोप लगाया।

हालाँकि, 2017 में पीड़िता ने इस मामले की सुनवाई करने वाले विशेष न्यायाधीश न्यायमूर्ति अखिलानंद दुबे के समक्ष एक समझौता याचिका दायर की, जिसमें उसने प्रार्थना की कि वह आरोपी निखिल से शादी करने के लिए तैयार है।

कांग्रेस पार्टी के प्रकाशन नेशनल हेराल्ड की इस रिपोर्ट के अनुसार, एनडीटीवी के एंकर रवीश ने अपने भाई के खिलाफ आरोपों को रफा-दफा करवा दिया था। ब्रजेश को 2015 के विधानसभा चुनाव में कांग्रेस के उम्मीदवार के रूप में मैदान में उतारा गया लेकिन 28,000 से अधिक वोटों से अपने भाजपा प्रतिद्वंद्वी से वह हार गए थे।

कांग्रेस राष्ट्रीय जनता दल (राजद) के नेतृत्व वाले महागठबंधन का हिस्सा है। राजद जहाँ 144 सीटों पर चुनाव लड़ रही है, वहीं कांग्रेस 70 और वाम दल 29 सीटों पर मैदान में उतरेंगे।