समाचार
“कांग्रेस ने 60 वर्षों तक दलितों के लिए कुछ नहीं किया”, भीम आर्मी का सहयोग नहीं

भीम आर्मी ने कांग्रेस के लिए कहा कि कांग्रेस ने देश में 60 साल तक राज करने के बाद भी दलितों के लिए कुछ नहीं किया है, तो ऐसा कोई भी कारण नहीं है कि भीम आर्मी उत्तर प्रदेश में आगामी लोकसभा चुनावों में कांग्रेस को सहयोग देगी, द हिंदू  ने रिपोर्ट किया।

भीम आर्मी के अध्यक्ष विनय रतन सिंह ने बताया, “कांग्रेस बाबा साहेब अंबेडकर के साथ लड़ी थी, कांग्रेस पार्टी ने देश में बहुत सालों राज किया है, पर हमारे लिए इन्होंने कभी कुछ नहीं किया, कांग्रेस के काल में दलितों पर अत्याचार होते आए हैं, और इससे भाजपा और आरएसएस को लाभ मिला है, तो हमारे पास एक भी कारण नहीं है कि हम कांग्रेस का साथ दें”।

यह बयान उस समय के कुछ दिनों बाद आया है जब कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की बहन प्रियंका गांधी भीम आर्मी के नेता चंद्रशेखर आज़ाद को मिलने के लिए मेरठ अस्पताल में आई थीं।

इस मुलाकात के बारे में जानकारी देते हुए विनय ने बताया, “वे आज़ाद भाई से मिलना चाहती थीं पर उन्होंने मिलने से मना कर दिया था, उसके बाद प्रियंका के द्वारा विशेष रूप से विनती करने के बाद उन्हें चंद्रशेखर से मिलने दिया गया पर इस दौरान किसी राजनीतिक मुद्दे पर बात नहीं की गई”।

शुक्रवार (15 मार्च) को एक रैली के दौरान चंद्रशेखर आज़ाद ने कहा कि वह वाराणसी सीट से नरेंद्र मोदी के खिलाफ चुनाव लड़ेंगे, और पार्टी ने यह भी साफ़ किया कि वह केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी के खिलाफ भी एक उम्मीदवार उतारेगी। पंजाब में भी जहाँ दलितों की आबादी ज़्यादा है, वहाँ भी भीम आर्मी ने चुनाव लड़ने की बात कही है। और साथ ही आज़ाद ने एसपी-बीएसपी के गठंबधन से साथ चाहा है और समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव से कहा कि उनकी पार्टी द्वारा की गई गलतियों का भुगतान किया जाए।