समाचार
बेंगलुरु- 58 लोगों को क्वारंटीन करने जा रहे स्वास्थ्य अधिकारियों पर हमला, 59 धरे गए

58 लोगों को क्वारंटीन करने के लिए बेंगलुरु के चामराजपेट के पडारायणपुरा क्षेत्र में पहुँची स्वास्थ्य अधिकारियों की टीम पर करीब 200 लोगों की भीड़ ने हमला कर दिया। माना जा रहा है कि ये लोग कोविड-19 के सकारात्मक मरीजों के संपर्क में आए थे।

कोविड-19 के 10 से अधिक मामले आने के बाद क्षेत्र को सील कर उसके चारों ओर बैरिकेडिंग और चेकपोस्ट बनाकर निगरानी शुरू की गई थी, जिसे भीड़ ने हमले के दौरान तोड़ दिया।

मुस्लिम बहुल पश्चिम बेंगलुरु के वॉर्ड पडारायणपुरा को पिछले हफ्ते सील किया गया था। दरअसल, गत माह दिल्ली के निज़ामुद्दीन में तबलीगी जमात की धार्मिक सभा में यहाँ के तीन जमातियों ने हिस्सा लिया था, जो जाँच में कोविड-19 से संक्रमित पाए गए थे। जैसे ही स्वास्थ्य अधिकारियों की टीम वहाँ पहुँची, स्थानीय लोग आक्रोशित हो गए और उन्होंने बैरिकेड्स हटाने शुरू कर दिए।

भीड़ के हमले से चिकित्सीय टीम को 33 लोगों को छोड़ना पड़ा, जिन्हें क्वारंटीन करने को ले जाया जा रहा था। रविवार को हिंसा भड़कने के बाद बेंगलुरु दक्षिण के पुलिस उपायुक्त मौके पर पहुँचे और स्थिति को नियंत्रण में लिया।

सोमवार को मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा ने गृह मंत्री बसवराज बोम्मई और पुलिस अधिकारियों संग बैठक की। बैठक के बाद बोम्मई ने कहा, “मुख्यमंत्री ने हमसे सख्ती से पेश आने को कहा है। मैंने अधिकारियों को भी यही बताया है। हम इसे बर्दाश्त नहीं करेंगे। हमने 59 लोगों को गिरफ्तार किया है और पांच प्राथमिकी दर्ज की हैं। मैं पडारायणपुरा जाऊँगा और सुनिश्चित करूँगा कि बाकी लोग भी क्वारंटीन किए जाएँ।”

कर्नाटक के मुख्यमंत्री ने स्वास्थ्य अधिकारियों पर हमले की निंदा की। उन्होंने ट्वीट किया, “पुलिस कमिश्नर को आशा कार्यकर्त्रियों और अन्य अधिकारियों को पूरी सुरक्षा देने को कहा गया है। कोविड-19 के खिलाफ जंग लड़ने वालों पर हमले बर्दाश्त नहीं किए जाएँगे।”