समाचार
बेंगलुरु के नम्मा मेट्रो के दूसरे चरण हेतु जापान की जिका से मिला ₹3,717 करोड़ का ऋण

बेंगलुरु में बैंगलोर मेट्रो रेल कॉरपोरेशन लिमिटेड (बीएमआरसीएल) के दूसरे चरण के विकास के लिए जापान इंटरनेशनल कोऑपरेशन एजेंसी (जिका) ने भारत के साथ एक अनुबंध पर हस्ताक्षर किए हैं। अब वह जापानी आधिकारिक विकास सहायता (ओडीए) को 52,036 मिलियन जापानी येन, जो भारतीय मुद्रा में करीब 3,717 करोड़ रुपये है, की ऋण राशि प्रदान करेगा।

दूसरे चरण के लिए जिका वित्त पोषित मेट्रो रेल नेटवर्क में लाइन आर6 (नागवारा गॉटीगेरे), चरण 2ए (सिल्क बोर्ड केआर पुरम) और चरण 2बी (केआर पुरम केम्पेगौड़ा अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डा टर्मिनल) शामिल हैं। यह रेल नेटवर्क आर6, 2ए और 2बी के लिए क्रमशः लगभग 22 किमी, 20 किमी और 38 किमी दूरी को कवर करता है।

फरवरी में निर्मला सीतारमण ने अपने केंद्रीय बजट 2021 के भाषण में 58 किमी की लंबाई को कवर करने वाली नम्मा मेट्रो फेज़-2 परियोजना के चरण 2ए और 2बी के लिए 14,788 करोड़ रुपये आवंटित करने की घोषणा की थी। यह घोषणा परियोजना को गति देने के लिए की गई थी।

इससे पूर्व, मार्च 2019 में बीएमआरसीएल ने कोथनूर और हेब्बागोड़ी डिपो के लिए भूमि अधिग्रहण की प्रक्रिया पूरी की थी। अंजनपुरा के लिए अंतिम अधिसूचना सरकार को भेज दी गई थी और तालघाट में मेट्रो परियोजना के लिए 21 एकड़ भूमि का अधिग्रहण किया गया था।

मार्च 2006 में बीएमआरसीएल चरण-1 के लिए जिका द्वारा पहले जापानी ओडीए ऋण समझौते पर हस्ताक्षर किए गए थे। चरण-1 में 41 स्टेशनों के साथ 42.3 किलोमीटर का परिचालन रेल नेटवर्क है।

द इकोनॉमिक टाइम्स ने उल्लेख किया कि भारत में मेट्रो परियोजनाओं (दिल्ली, बेंगलुरु, चेन्नई, कोलकाता, मुंबई और अहमदाबाद सहित) के लिए जिका द्वारा प्रदान की गई संचयी ऋण राशि 1.3 खरब जापानी येन (लगभग 87,000 करोड़ रुपये) से अधिक है।