समाचार
रेल मंत्री गोयल बोले, “बंगाल नहीं दे रहा पर्याप्त श्रमिक विशेष ट्रेनें चलाने की अनुमति”

रेल मंत्री पीयूष गोयल ने पश्चिम बंगाल, राजस्थान, छत्तीसगढ़ और झारखंड जैसे राज्यों को फटकार लगाते हुए कहा, “ये राज्य कहने के बावजूद प्रवासी श्रमिकों को घर वापस लाने के लिए आवश्यक संख्या में ट्रेनें चलाने की अनुमति नहीं दे रहे हैं।”

एएनआई से बात करते हुए पीयूष गोयल ने कहा, “भारतीय रेलवे ने 1,200 ट्रेनों को श्रमजीवी स्पेशल के रूप में चलाया है। ये प्रवासी श्रमिकों को उनके गृह नगर ले जा रही हैं। कई राज्य ऐसे हैं, जो अपने यहाँ ऐसी ट्रेनें चलाने की अनुमति नहीं दे रहे हैं।”

उन्होंने कहा, “पश्चिम बंगाल ने शुरू में केवल दो ट्रेनों को चलाने की अनुमति दी थी और गृह मंत्री अमित शाह के लिखित अनुरोध के बाद आठ और की अनुमति दी थी। हालाँकि, गुरुवार (14 मई) तक उनमें से केवल पाँच ट्रेनों को लिखित में चलाने की अनुमति दी गई है।

रेल मंत्री ने यह भी कहा कि ममता बनर्जी की अगले 30 दिनों में 105 ट्रेनों की स्वीकृति की घोषणा बेहद कम थी। चूँकि, यह अनुमति 30-40 लाख प्रवासी श्रमिकों में से महज 1.5 लाख की ही मदद करेगी, जो बंगाल वापस आने की प्रतीक्षा कर रहे हैं।

उन्होंने इसकी बजाय बंगाल सरकार से अपील की कि वह प्रतिदिन 105 ट्रेनों को चलाने की अनुमति दें, ताकि प्रवासी श्रमिकों की आवश्यक संख्या को घर वापस भेजा जा सके।