समाचार
बांग्लादेश नहीं करेगा चीन की कोविड-19 वैक्सीन में निवेश, रुका क्लीनिकल परीक्षण

बांग्लादेश ने चीन को झटका देते हुए उसके कोविड-19 वैक्सीन के परीक्षण पर धन लगाने से मना कर दिया। बांग्लादेश में चीन की दवा सिनोवैक बायोटेक विकसित कर रहा है। अब इसका क्लीनिकल परीक्षण भी अधर में लटक गया है।

दैनिक जागरण की रिपोर्ट के अनुसार, सिनोवैक बायोटेक लिमिटेड ने 24 सितंबर को एक पत्र में कहा था, “जब तक सरकार फंड मुहैया नहीं कराएगी, तब तक परीक्षण में देरी होती रहेगी।” हालाँकि, एक समझौते के मुताबिक, सिनोवैक परीक्षण की लागत को वहन करने वाली थी।

स्वास्थ्य मंत्री जाहिद मालेक के हवाले से कहा गया, “सिनोवैक को अपने पैसों से परीक्षण करना चाहिए क्योंकि उन्होंने स्वीकृति मांगते वक्त खुद के धन से परीक्षण की बात कही थी। इस वजह से उन्हें इसकी अनुमति दी गई थी। परीक्षण के लिए अनुमति मांगते समय फंडिंग को लेकर कोई बात नहीं की गई थी।”

उन्होंने कहा, “किसी वैक्सीन के क्लीनिकल परीक्षण को स्वीकृति देने के बाद उस देश का काम खत्म हो जाता है। चीन की सरकार और हमारे बीच इस तरह का कोई अनुबंध नहीं हुआ है। यह एक निजी कंपनी है और हम निजी कंपनी के साथ सह-वित्तपोषण नहीं कर सकते हैं।”

जाहिद मालेक ने कहा कि बांग्लादेश को वैक्सीन जल्द मिलेगी। हम इसे विकसित करने पर भारत का सहयोग करेंगे। स्वीकृति मिलने के बाद इसको खरीद सकते हैं। सिनोवैक डब्ल्यूएचओ के साथ काम करेगा और यह विभिन्न देशों को वैक्सीन प्रदान करेगा।