समाचार
युवा नेता की हत्या करने वाले दो रोहिंग्या शरणार्थियों को बांग्लादेश पुलिस ने मार गिराया

एक सत्ताधारी पार्टी के नेता की हत्या के बाद शरणार्थियों के शिकार को जारी रखते हुए बांग्लादेश सुरक्षा बलों ने शुक्रवार (13 सितंबर) को दक्षिणी सीमा क्षेत्र में दो और रोहिंग्या शरणार्थियों की गोली मार कर हत्या कर दी।

अवामी लीग पार्टी के एक युवा विंग के पदाधिकारी उमर फारूक की कुछ रोहिंग्या पुरुषों द्वारा कथित तौर पर हत्या कर दी गई थी। पुलिस तब से हत्यारों को खोज में तलाशी अभियान चला रही है। पुलिस अधिकारियों के अनुसार, मरने वाले शरणार्थी फारूक की हत्या में शामिल थे और पुलिस के साथ मुठभेड़ में गंभीर रूप से घायल हो गए थे। बाद में उन्हें अस्पताल लाया गया, जहाँ उन्हें मृत घोषित कर दिया गया।

कॉक्स बाजार के सीमावर्ती जिले में पुलिस के प्रमुख मसूद हुसैन ने समाचार एजेंसी एएफपी को बताया, “वे रोहिंग्या बदमाश हैं। वे डकैती, अपहरण और नशीले पदार्थों की तस्करी में शामिल थे और 22 अगस्त को फारूक की हत्या के आरोपी थे।”

एएफपी के अनुसार, फारूक की हत्या में कथित रूप से शामिल होने के लिए इन दोनों शरणार्थियों सहित छह लोगों को शिकार बनाया गया है और उनकी हत्या कर दी गई है। हालांकि, पुलिस का दावा है कि वे सभी मुठभेड़ के दौरान मारे गए हैं।