समाचार
बांग्लादेश क्रिकेट खिलाड़ियों के हड़ताल वापस लेने से 3 नवंबर से भारत दौरा सुनिश्चित

बांग्लादेश क्रिकेट टीम ने कप्तान शाकिब अल हसन की अगुवाई में वेतन और अन्य सुविधाओं को लेकर चल रही हड़ताल वापस ले ली है। इस तरह बांग्लादेश के 3 नवंबर से शुरू हो भारत दौरे को लेकर मंडराते संकट के बादल छट गए हैं।

हिंदुस्तान लाइव की रिपोर्ट के अनुसार, बांग्लादेश क्रिकेट बोर्ड (बीसीबी) द्वारा सभी मांगों को पूरा करने का आश्वासन मिलने के बाद क्रिकेटरों ने हड़ताल खत्म की। बुधवार को देर रात हुई बैठक के बाद खिलाड़ियों और बीसीबी के बीच गतिरोध खत्म हुआ।

शाकिब के हवाले से ईएसपीएनक्रिकइंफो  ने कहा, “जैसा कि बीसीबी प्रमुख नजमुल हसन ने कहा कि बातचीत में तय हुआ है कि जितनी जल्दी हो सके खिलाड़ियों की मांगें पूरी की जाएँगी। उनके भरोसे पर हम एनसीएल में खेलना शुरू कर रहे और ट्रेनिंग शिविर में हिस्सा लेंगे।”

बैठक में शाकिब के अलावा मुशफिकुर रहीम, महमूदुल्लाह और तमीम इकबाल जैसे वरिष्ठ खिलाड़ी शामिल थे। खिलाड़ियों ने सोमवार की 11 मांगों में दो मांग और जोड़ते हुए कहा था, “उन्हें बीसीबी के राजस्व में प्रतिशत हिस्सा और महिला क्रिकेटरों के लिए समान वेतन भी चाहिए।” बीसीबी अध्यक्ष ने बाद की दो मांगों पर तो नहीं पर पुरानी 11 मांगों पर प्रतिबद्धता जताई है। खिलाड़ी संस्था के चुनाव की मांग पर भी बीसीबी राज़ी हो गया है।

शाकिब ने बताया, “हमने बोर्ड से कहा कि सीडब्ल्यूएबी चुनाव (खिलाड़ियों की संस्था) होना चाहिए। हम मौजूदा खिलाड़ियों में एक प्रतिनिधि चाहते हैं, जो हमारी समस्याओं को बोर्ड के सामने रख सके और उस पर चर्चा कर सके। उन्होंने इस पर मंजूरी जता दी है।”

नजमुल हसन ने कहा,” सीडब्ल्यूएबी चुनाव का बीसीबी से कोई लेना-देना नहीं है। अंतिम मांग पर पर प्रत्येक मामले के हिसाब से गौर किया जाएगा। बाकी मांगों पर हम सहमत हो गए हैं। इसमें डीपीएल स्थानांतरण और बीपीएल फ्रेंचाइजी माडल भी शामिल है।