समाचार
सीताराम येचुरी ने रामायण और महाभारत को बताया हिंसक, मुकदमा दर्ज

भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (मार्क्सवादी) के महासचिव सीताराम येचुरी के खिलाफ हरिद्वार में मुकदमा दर्ज कर लिया गया है। उन्होंने एक बयान में रामायण और महाभारत जैसे पौराणिक महाकाव्यों को हिंसा और युद्ध के उदाहरणों से भरपूर बताया था।

एएनआई की रिपोर्ट के अनुसार, हरिद्वार में योग गुरु बाबा रामदेव के साथ कई अन्य ने वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक के पास जाकर येचुरी के खिलाफ शिकायत दर्ज करवाई। मीडिया से बातचीत के दौरान बाबा रामदेव ने कहा, “पूर्वजों का अपमान करने पर हमने येचुरी के खिलाफ शिकायत दर्ज करवाई है। यह एक अपराध है। उन्हें सलाखों के पीछे डाला जाना चाहिए। हमने इस मामले में कड़ी जाँच की माँग की है।”

उधर, येचुरी ने आरोप लगाया कि भाजपा अपनी विभाजनकारी नीतियों के माध्यम से वोटों के लिए समाज को खंडित कर रहा है। हिंदू हिंसा के नमूनों के रूप में वह रामायण और महाभारत के धार्मिक महाकाव्यों की मदद ले रहा है। साध्वी प्रज्ञा ने कहा, “हिंदू हिंसा में विश्वास नहीं रखते हैं। बहुत से राजाओं और रियासतों ने देश में युद्ध लड़े हैं।”

सीताराम येचुरी ने कहा था, “रामायण और महाभारत की लड़ाई हिंसा से भरी है। एक प्रचारक के तौर पर उसे केवल महाकाव्य बताया जाता रहा है। यह दावा करना ठीक नहीं कि हिंदू हिंसक नहीं हो सकते हैं। रामायण और महाभारत हिंसा के उदाहरणों से भरे पड़े हैं।”

लोकसभा चुनाव के दौरान आए सीताराम येचुरी के इस बयान के बाद से उनकी आलोचनाएँ शुरू हो गई हैं। शिवसेना ने येचुरी को अपने नाम के आगे से सीताराम हटाने को कहा है।