समाचार
कल्याण सिंह को अयोध्या के संत राम मंदिर निर्माण हेतु प्रस्तावित ट्रस्ट में चाहते हैं
आईएएनएस - 7th January 2020

अयोध्या में साधु-संतों की ओर से मांग उठी है कि उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के वरिष्ठ नेता कल्याण सिंह को राम मंदिर के निर्माण के लिए प्रस्तावित ट्रस्ट में शामिल किया जाए।

अस्थायी राम मंदिर के मुख्य पुजारी सत्येंद्र दास ने कहा कि मंदिर आंदोलन के प्रति कल्याण सिंह का योगदान काफी बड़ा था और उन्हें ट्रस्ट में शामिल किया जाना चाहिए।

सत्येंद्र दास ने कहा, “कल्याण सिंह ने अपनी कुर्सी (मुख्यमंत्री के रूप में) त्याग दी थी और इतना ही नहीं वें बाबरी मस्जिद के विध्वंस के बाद एक दिन के लिए जेल भी गए थे। वें एक सच्चे रामभक्त हैं और इस सम्मान के हकदार हैं।”

आपको बता दें कि जब 6 दिसंबर 1992 बाबरी मस्जिद को ध्वस्त किया गया था तब कल्याण सिंह उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री थे। उनकी सरकार को विध्वंस के घंटों बाद खारिज कर दिया गया था और उनको एक दिन के लिए जेल भेज दिया गया था क्योंकि उन्होंने न्यायालय को वचन दिया था कि वें मस्जिद की रक्षा करेंगे।

गौरतलब है कि बाद में उन्होंने स्वीकार किया था कि उन्होंने आदेश दिया था कि अयोध्या में, ‘कारसेवकों’, पर कोई गोलीबारी नहीं की जानी चाहिए।

विश्व हिंदू परिषद के प्रवक्ता शरद शर्मा ने भी विध्वंस के दौरान कल्याण सिंह की भूमिका को स्वीकार किया और कहा, “6 दिसंबर 1992 को अयोध्या में तैनात पुलिस और अर्ध-सैन्य कर्मियों द्वारा एक भी रामभक्त को नहीं छुआ गया था। कल्याण सिंह इसके लिए श्रेय के हकदार हैं और मंदिर आंदोलन के लिए उनकी प्रतिबद्धता निर्विवाद है और हम उन्हें ट्रस्ट में शामिल करने के लिए समर्थन करेंगे।”

(इस खबर को वायर एजेंसी फीड की सहायता से प्रकाशित किया गया है।)