समाचार
अयोध्या मामले की सुनवाई टली, मध्यस्थता कमेटी को दिया 15 अगस्त तक का समय

अयोध्या मामले पर शुक्रवार को सर्वोच्च न्यायालय के पांच जजों की संवैधानिक पीठ ने फैसले को टालते हुए मध्यस्थता कमेटी को 15 अगस्त तक का समय दिया है।

एएनआई की रिपोर्ट के अनुसार, अदालत के सामने तीन सदस्यों की मध्यस्थता कमेटी ने मामले का हल निकालने के लिए और वक्त की माँग की थी।

कमेटी ने अदालत में दी अपनी याचिका में कहा, “काम अभी जारी है लेकिन उन्हें थोड़े और वक्त की आवश्यकता है।” इसके बाद अदालत ने 15 अगस्त तक का समय दे दिया। इससे पहले भी मध्यस्थता कमेटी को आठ हफ्ते का समय दिया जा चुका है।

उधर, भारत के मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई ने कहा, “हम इस पर अभी कुछ नहीं बता सकते हैं कि क्या प्रक्रिया चल रही है। यह मामला पूरी तरह से गोपनीय है।”

इससे पूर्व, शीर्ष अदालत ने अयोध्या मामले को राजनीतिक रूप से संवेदनशील मानते हुए एक कमेटी का गठन किया था। इसमें रिटायर्ड न्यायाधीश एफएम कलीफुल्ला, आध्यात्मिक गुरु श्रीश्री रविशंकर और वरिष्ठ अधिवक्ता श्रीराम पंचू शामिल हैं।