समाचार
ऑस्ट्रेलियाई प्रधानमंत्री मॉरिसन की यात्रा से पहले रसद व सुरक्षा समझौते पर बढ़ी निकटता

भारत-ऑस्ट्रेलिया के बीच द्विपक्षीय एवं रक्षा संबंधों को बढ़ावा देते हुए जनवरी 2020 में होने वाली ऑस्ट्रेलियाई प्रधानमंत्री मॉरिसन की भारत यात्रा के दौरान दोनों देश रसद समर्थन समझौता (एलएसए) पर हस्ताक्षर करने के करीब आ रहे हैं।

इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के अनुसार भारत-ऑस्ट्रेलिया के विदेश और रक्षा सचिव सोमवार (9 दिसंबर) को नई दिल्ली में मिले। दोनों पक्षों ने रक्षा और विदेशी सचिवीय स्तर की वार्ता के दौरान अपनी रणनीतिक भागीदारी और क्षेत्रीय सुरक्षा परिदृश्य की व्यापक समीक्षा की।

एलएसए समझौता रसद समर्थन के लिए देशों को एक दूसरे के सैन्य ठिकानों का उपयोग करने की अनुमति देता है।

गौरतलब है कि ऑस्ट्रेलियाई प्रधानमंत्री मॉरिसन 13 से 16 जनवरी तक भारत के दौरे पर रहेंगे और अपनी यात्रा के दौरान वे दिल्ली, मुंबई और बेंगलुरु जाएँगे। मॉरिसन यात्रा के दौरान रायसीना संवाद को भी संबोधित करेंगे।

दोनों पक्षों ने व्यापक रूप से द्विपक्षीय रक्षा संलग्नक और रक्षा उद्योग और प्रौद्योगिकी के क्षेत्रों में सहयोग बढ़ाने पर चर्चा की।

इसके अलावा दोनों देशों के बीच हिंद-प्रशांत महासागर में बदलती स्थितियों पर भी चर्चा हुई और दोनों देशों ने हिंद-प्रशांत महासागर क्षेत्र में क्षेत्रीय शांति और सुरक्षा के लिए मिलजुल कर काम करने का संकल्प लिया।

ऑस्ट्रेलियाई प्रतिनिधि मंडल की विदेश मंत्री एस जयशंकर और उप-राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार (एनएसए) पंकज सरन के साथ विदेश मंत्रालय के सचिव विजय गोखले और रक्षा सचिव अजय कुमार के साथ कई महत्वपूर्ण बैठकें हुई।