समाचार
प्रधानमंत्री के उपहारों की नीलामी हुई सफल, कई वस्तुएँ 22 गुना दर पर बिकीं

दिल्ली की नेशनल गैलेरी ऑफ आर्ट में प्रधानमंत्री मोदी को मिले लगभग 1,800 स्मृति-चिह्नों व उपहारों की नीलामी 27 और 28 जनवरी को हुई जिससे नमामि गंगे के लिए निधि एकत्रित की गई, एएनआई  ने रिपोर्ट किया। अन्य स्मृति-चिह्न मंगलवार (29 जनवरी) से 31 जनवरी तक ऑनलाइन पोर्टल पर नीलाम किए जाएँगे।

इन राष्ट्रीय व अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर मिले उपहारों में कई स्मृति चिह्न, चित्र, शौल, पुस्तकें, जैकेट, सांस्कृतिक वाद्य यंत्र और अन्य कई चांदी व लकड़ी का वस्तुएँ सम्मिलित हैं। 1,000 रुपये की मूल मूल्य वाली वस्तुएँ 22,000 रुपये से अधिक में भी बिकी हैं।

अमित कुमार, जिन्होंने गुजराती संदेश लिखा हुआ एक स्मृति-चिह्न खरीदा, ने बताया कि वे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का बहुत सम्मान करते हैं और इस वस्तु को पाना उनके लिए गर्व की बात है। उन्हें इस बात की भी खुशी थी कि इस तरह से वे नामामि गंगे परियोजना में भी योगदान दे पाए।

संग्रहालय के महानिदेशक अद्वैत गुरु चरण गरण्यक ने बताया कि इस नीलामी को बहुत सकारात्मक प्रतिक्रिया मिली है। “कल बहुत भीड़ थी, मूल्य से 15 गुना अधिक कीमतों की भी बोली लगाई गई। इन वस्तुओं के मूल्य के अलावा इनसे लोगों का भावनात्मक जुड़ाव भी है क्योंकि यह प्रधानमंत्री मोदी के पास थीं। सबसे ज़्यादा खरीद शौल की हुई।”, गरण्यक ने बताया।

उन्होंने बताया कि स्वामी विवेकानंद की एक छोटी मूर्ती कड़ी प्रतिस्पर्धा के बाद 30,000 रुपये में बिकी। इस नीलामी से इकट्ठा की गई राशि का प्रयोग नमामि गंगे परियोजना के लिए किया जाएगा।