समाचार
गौहत्या के मुख्य आरोपी मुश्ताक पर सहधर्मी को नहीं विश्वास, गाँव के मदरसे में तोड़-फोड़

उत्तर प्रदेश के फतेहपुर में बिंदकी क्षेत्र के बेहटा गाँव में गौमाँस की खबर पर हिंसा होने के बाद फरार गौहत्या के मुख्य आरोपी मुश्ताक का विरोध उसके सहधर्मी महमूद खान ने ही किया है।

ग्रामीण महमूद खान ने कहा, “यहाँ हिंदू-मुस्लिम सद्भाव से रहते हैं। एक व्यक्ति की वजह से पूरे समुदाय पर सवाल उठ रहे हैं। आरोपी मुश्ताक हमेशा ऐसी गतिविधियों में शामिल रहा है। उसका पूरा परिवार फरार है।”

एक मदरसे में गौमाँस मिलने की खबर के बाद भीड़ ने हमला कर तोड़फोड़ की और मदरसे की दीवार गिरा दी। पुलिस के अनुसार, गाँव में तीन जगह गौमाँस बरामद हुआ। गाँव में पुलिस बल को तैनात कर दिया गया है।

द इंडियन एक्सप्रेस  की रिपोर्ट के अनुसार, पुलिस ने गौहत्या के लिए एक और मदरसे पर हमले का दूसरा मामला दर्ज किया। गौ हत्या का मुख्य आरोपी मुश्ताक फरार है और हिंसा के संबंध में 60 अन्य ग्रामीणों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की गई है।

एसपी रमेश ने बताया, “मुश्ताक के घर के पीछे से गाय के अवशेष मिले। मंगलवार को प्राथमिक विद्यालय के पीछे तालाब से फिर गाय के अवशेष मिले। उसे दफनाने वाले थे कि तभी पता चला कि मुश्ताक के घर के पास एक मदरसे से गाय के बछड़े के अवशेष मिले। इसके बाद ग्रामीण वहाँ इकट्ठा हुए और हिंसक हो गए।”

ग्रामीणों के अनुसार, हिंसा में करीब 60-70 लोग हिंसा शामिल थे। फतेहपुर के जिला मजिस्ट्रेट संजीव सिंह ने कहा, “गाँव के कुल 1200 लोगों में से 60 प्रतिशत हिंदू और बाकी मुस्लिम हैं। जिस मदरसे पर हमला हुआ वो बोर्ड से पंजीकृत नहीं था। मदरसे में तीन दिन से कक्षाएँ नहीं चल रही थीं।”