समाचार
63 तेजस मार्क-1ए लड़ाकू विमान देश में विकसित उत्तम एईएसए राडार से होंगे सुसज्जित

घरेलू रक्षा विनिर्माण को बढ़ावा देने के लिए केंद्र सरकार के मेक इन इंडिया के स्पष्ट आह्वान और महत्वाकांक्षी अभियान के तहत 83 एलसीए तेजस मार्क-1ए लड़ाकू विमानों में से 63, जिसके लिए हाल ही में हिंदुस्तान एयरोनॉटिक्स लिमिटेड (एचएएल) को आदेश दिया गया था, वे इज़राइल के बजाय स्वदेशी रूप से विकसित उत्तम राडार से लैस हैं।

टाइम्स ऑफ इंडिया की रिपोर्ट के अनुसार, रक्षा अनुसंधान और विकास संगठन (डीआरडीओ) की बेंगलुरु स्थित एलआरडीई प्रयोगशाला द्वारा विकसित 21वीं इकाई से शुरू होने वाले सभी तेजस मार्क-1ए जेट्स पर उत्तम राडार लगाए जाएँगे, जो एचएएल द्वारा निर्मित होंगे।

वितरण दिशा-निर्देशों को पूरा करने के लिए एचएएल 20 इज़राइली राडार के लिए आदेश देगा। कंपनी के अध्यक्ष और प्रबंध निदेशक आर माधवन के अनुसार, इसके बाद उत्तम राडार उपयोग के लिए तैयार होना चाहिए।

डीआरडीओ अध्यक्ष सतीश रेड्डी ने कहा, “हमारे पास 21वें तेजस मार्क-1 ए से उत्तम राडार लगना शुरू हो जाएगा। उत्तम ने अब तक के परीक्षणों में बेहतर प्रदर्शन किया है। हमने पहले ही एचएएल के साथ एक समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर कर दिए हैं।”

यह भी गौर किया जाना चाहिए कि एचएएल स्वदेश में बने लड़ाकू विमान मंच पर स्वदेशी सामग्री को बढ़ाकर वर्तमान में 52 प्रतिशत से 62-65 प्रतिशत तक करने का लक्ष्य रख रहा है।

उत्तम राडार एक अत्याधुनिक एईएसए मंच है, जो कई लक्ष्यों का पता लगा सकता है और जासूसी गतिविधियों की सहायता के लिए उच्च-रिज़ॉल्यूशन की तस्वीरें ले सकता है। राडार का वर्तमान में दो एलजेए लड़ाकू विमान और एक कार्यकारी जेट पर भी परीक्षण किया जा रहा है।