समाचार
गगनयान के चयनित 4 अंतरिक्ष यात्री रूस से प्रशिक्षण लेकर लौटे, भारत में प्रशिक्षण जल्द

भारतीय वायुसेना के चार विमान चालक, जो अब भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन के कर्मचारी हैं, वे रूस में गगनयान अभियान के लिए अपना प्रशिक्षण पूरा कर चुके हैं। वे जल्द ही अभियान विशिष्ट प्रशिक्षण शुरू करने जा रहे हैं, जो भारत के कई शहरों में होगा।

टाइम्स ऑफ इंडिया में प्रकाशित एक रिपोर्ट के अनुसार, इसरो के अध्यक्ष डॉक्टर के सिवन ने पुष्टि की कि अंतरिक्ष यात्री हाल ही में लौटे थे। उन्होंने बताया कि रूस में उनका सामान्य प्रशिक्षण था और अब चेन्नई और बेंगलुरु में उनका गगनयान-विशिष्ट प्रशिक्षण शुरू होगा।

गगनयान के लिए विशिष्ट परिस्थितियों और प्रतिक्रियाओं का प्रशिक्षण बेंगलुरु में आयोजित होगा। वहीं, उछाल व जल अस्तित्व परीक्षण नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ ओशन टेक्नोलॉजी (एनआईओटी) चेन्नै में होगा।

के सिवन ने कहा कि प्रशिक्षण का भारतीय मॉड्यूल रूस की तुलना में लंबी अवधि का होगा। चुने गए अंतरिक्ष यात्रियों को प्रक्षेपण यान, उड़ान प्रणाली और सुरक्षा उपकरणों में विशेषज्ञ होने की आवश्यकता होती है, जो महत्वपूर्ण है।

भारतीय परिस्थितियों में विशिष्ट ज्ञान प्रशिक्षण के अलावा, चिकित्सा, मनोवैज्ञानिक और उन्नत सिमुलेशन प्रशिक्षण मॉड्यूल भी शामिल होंगे। तनाव को प्रबंधित करने और शून्य-गुरुत्वाकर्षण वातावरण में रहने के लिए मनोवैज्ञानिक प्रशिक्षण की आवश्यकता होती है। इसरो नए सिमुलेटरों का विकास या खरीद करेगा, जो चुने गए अंतरिक्ष यात्रियों को उन्नत प्रशिक्षण प्रदान करने में मदद करेंगे। सिवन ने आगे कहा कि अंतरिक्ष यात्रियों के पास उन्हें सक्रिय रखने के लिए उड़ान भरने का एक नियमित कार्यक्रम होगा।