समाचार
असम मुख्यमंत्री ने मदरसों को तत्काल सामान्य विद्यालयों में परिवर्तित करने के निर्देश दिए

सर्बानंद सोनोवाल के नेतृत्व वाली पिछली सरकार के निर्णय को लागू करने के लिए असम के मुख्यमंत्री हिमंत बिस्वा सरमा ने मंगलवार (18 मई) को अधिकारियों को निर्देश दिया कि भंग किए गए मदरसों को सामान्य विद्यालयों में बदलने की प्रक्रिया तत्काल शुरू की जाए।

इकोनॉमिक टाइम्स की रिपोर्ट के अनुसार, उन्होंने ने यह निर्देश शिक्षा मंत्री रानुज पेगु और वित्त मंत्री अजंता नियोग की उपस्थिति में शिक्षा विभाग के कामकाज की व्यापक समीक्षा करते हुए दिए।

मुख्मयंत्री हिमंत बिस्वा सरमा ने अधिकारियों को विशेष रूप से प्रांतीय और सरकारी स्कूलों में प्राथमिकता के आधार पर शिक्षकों की भर्ती सुनिश्चित करने और समय-समय के अंतराल में इसे पूरा करने को कहा।

दिसंबर 2020 में विपक्षी विधायकों के विरोध के बीच विधानसभा में असम मदरसा शिक्षा (प्रादेशिक) अधिनियम-1995 और असम मदरसा शिक्षा (प्रादेशिक कर्मचारियों की सेवाओं एवं मदरसा शिक्षा संस्थान पुनर्गठन) अधिनियम, 2018 को रद्द करने वाले असम निरस्तीकरण विधेयक 2020 को पारित किया गया था।

मदरसों के लिए सरकारी फंडिंग को खत्म करने के लिए विधेयक को पास किया गया था। इसमें उल्लेख किया गया था कि मौजूदा 620 से अधिक मदरसों को 1 अप्रैल 2021 तक सामान्य स्कूलों में परिवर्तित किया जाएगा।