समाचार
कश्मीर में अलगाववाद फैलाने के लिए मिली राशि से अंद्राबी ने बेटे को पढ़ाया विदेश में

राष्ट्रीय जाँच एजेंसी (एनआईए) की जाँच में पाया गया है कि महिलाओं के इस्लामी संगठन दुखतरन-ए-मिल्लत की प्रमुख आसिया अंद्राबी ने कश्मीर में अलगाववाद फैलाने के लिए हवाला चैनलों से मिलने वाली राशि का उपयोग अपने बेटे की मलेशिया में पढ़ाई के लिए किया।

जो राशि अंद्राबी को ज़हूर अहमद शाह वताली से हवाला चैनलों द्वारा मिली थी, वह उसके पुत्र मोहम्मद बिना क़ासिम के बैंक खातों में पहुँचाई गई, जो कि मलेशिया में पढ़ाई कर रहा है, वन इंडिया  ने रिपोर्ट किया।

वताली को हवाला का ज़रिया बताया जा रहा है जो पाकिस्तान, आईएसआई और यूएई से मिलने वाली राशि का हस्तांतरण किया करता था। उसने राशि के हस्तांतरण के लिए शेल कंपनियाँ बनाई हुई थीं जिससे कश्मीर के अलगाववादियों और पत्थरबाज़ों तक पैसे पहुँचाए जाते थे।

दुखतरन-ए-मिल्लत, हिज़बुल मुजाहिद्दीन, जमात-उद-दवाह, आदि ऐसी संस्थाएँ हैं जिनकी जाँच एनआईए आतंक को पोषित करने वाले वित्त के संबंध में कर रही है।