समाचार
“2010 से अब तक आरएसएस की 20,000 नई शाखाएँ खुलीं”- मनमोहन वैद्य

वरिष्ठ राष्ट्रीय स्वयं सेवक (आरएसएस) अधिकारी मनमोहन वैद्य के अनुसार, 2010 से अब तक 20,000 नई शाखाएँ (आरएसएस कैंप) खोली गई हैं। इनमें से 6000 हजार नई शाखाएँ 2010 से 2014 के बीच शुरू की गई हैं।

टाइम्स ऑफ इंडिया की रिपोर्ट के अनुसार, आरएसएस के संयुक्त सचिव वैद्य ने बुधवार को राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की सर्वोच्च नीति निर्धारक संस्था अखिल भारती कार्यकारी मंडल की तीन दिवसीय बैठक शुरू होने से पहले यह जानकारी पत्रकारों को दी।

वैद्य ने आरएसएस सदस्यों की गिरती उम्र की रूपरेखा पर भी जोर दिया। इसमें 60 प्रतिशत शाखाओं में स्कूली और कॉलेज जाने वाले छात्र हैं। वहीं, 29 प्रतिशत शाखाओं को युवा व्यवसायी और व्यापारी चला रहे हैं।

वैद्य ने आरएसएस में लोगों की बढ़ती रुचि की भी जानकारी दी। उन्होंने बताया, “पिछले पाँच वर्षों में संगठन में ‘ज्वाइन आरएसएस’ पोर्टल के माध्यम से शामिल होने वाले अनुरोधों की संख्या चौगुनी हो गई है।”

उन्होंने बताया, “खासकर कि 2013 में आरएसएस की वेबसाइट पर लगभग 28,000 अनुरोध प्राप्त हुए थे, जो कि 2019 के केवल 9 महीनों में बढ़कर 1.03 लाख हो गए हैं।”

वैद्य ने यह भी कहा, “संगठन अब 5000 से अधिक गाँवों में सामाजिक परिवर्तन पर काम करने की कोशिश कर रहा है, जहाँ वह छोटे परिवार के गुणों पर जोर दे रहा है और अस्पृश्यता को समाप्त कर रहा है।”