समाचार
अर्णब गोस्वामी से सोनिया गांधी टिप्पणी मामले में मुंबई पुलिस की ढाई घंटे से लंबी पूछताछ

पालघर में साधुओं की हत्या के मामले में सोनिया गांधी की आलोचना के बाद कांग्रेस पदाधिकारियों द्वारा दर्ज कराए गए मामले में रिपब्लिक टीवी के मुख्य संपादक अर्णब गोस्वामी सोमवार (27 अप्रैल) को मुंबई के एनएम जोशी मार्ग स्थित पुलिस थाने पूछताछ के लिए पहुँचे।

इससे पूर्व, सर्वोच्च न्यायालय ने आदेश दिया था कि अर्णब गोस्वामी के खिलाफ सभी आरोपों की मुंबई में एक ही एफआईआर दर्ज करने के बाद उसकी जाँच की जाए। जान की बात के संस्थापक प्रदीप भंडारी के अनुसार, कांग्रेस नेता नितिन राउत की ओर से दर्ज मामले को लेकर अर्णब से ढाई घंटे से अधिक समय से पूछताछ जारी रही।

रिपब्लिक टीवी ने रविवार को खबर दी थी कि मुंबई पुलिस ने 12 घंटे के भीतर अर्णब को दो नोटिस भेजे थे और सोनिया गांधी के खिलाफ उनकी टिप्पणियों पर तुरंत पूछताछ करने की बात कही थी। पूछताछ के लिए पुलिस स्टेशन जाने से पहले अर्णब ने कहा था, “वह कानून का पालन करते हैं और पूछताछ के लिए पुलिस के पास जाएँगे।” अर्णब गोस्वामी ने महाराष्ट्र सरकार पर अपने ऊपर लगे आरोपों को राजनीतिक दुर्भावनापूर्ण बताया।

उन्होंने यह भी जोर देकर कहा, “मैंने कुछ गलत नहीं कहा और अब भी मैं अपने बयान पर अडिग हूँ।” वीडियो में अर्णब गोस्वामी ने मुंबई पुलिस कमिश्नर से कहा कि शहर में उनपर और उनकी पत्नी पर हुए हमले की भी जाँच तेज़ की जाए। उन्होंने पुलिस पर कांग्रेस पर लगाए गए मामलों को बचाने का आरोप लगाया है। साथ ही कहा कि कांग्रेस के उच्च नेतृत्व के निर्देश पर उन पर हमला किया गया और इस मामले में कई राजनीतिक पूर्वाग्रह भी हैं।