समाचार
तृणमूल कांग्रेस से शुभेंदु अधिकारी के बाद दो और विधायकों ने दिया अपना त्याग पत्र

पश्चिम बंगाल में 2021 में होने वाले विधानसभा चुनाव से पहले मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को शुभेंदु अधिकारी के पार्टी छोड़ने के बाद दो और बड़े झटके लगे हैं। तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) के दो और मौजूदा विधायकों ने केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह के राज्य के दौरे से पहले ही पार्टी छोड़ दी।

हिन्दुस्तान टाइम्स को रिपोर्ट के अनुसार, टीएमसी विधायक जितेंद्र तिवारी ने पार्टी की प्राथमिक सदस्यता से अपना त्याग पत्र दे दिया। साथ ही आसनसोल नगर निगम के प्रशासकों के बोर्ड का अध्यक्ष पद भी त्याग दिया है। इसके अलावा, शुक्रवार (18 दिसंबर) को विधायक शीलभद्र दत्ता ने भी पार्टी छोड़ दी। वह 24 परगना जिले के बैरकपुर से विधायक हैं।

जितेंद्र तिवारी ने कहा, “अगर मुझे काम करने की अनुमति नहीं है तो मैं पद के साथ क्या करूँगा? इस वजह से मैंने पद त्याग दिया। अब पार्टी के साथ रहने का कोई मतलब नहीं है।”

टीएमसी के वरिष्ठ सदस्य शुभेंदु अधिकारी के पार्टी छोड़ने के 24 घंटे के भीतर एक और त्याग पत्र आने से ममता की मुश्किलें बढ़ती जा रही हैं। अधिकारी कुछ दिनों पहले तक मुख्यमंत्री की सरकार में मंत्री थे। यह टीएमसी के लिए एक बड़ा झटका है क्योंकि पश्चिम बंगाल में अगले साल विधानसभा चुनाव होने हैं।

रिपोर्ट के अनुसार, टीएमसी की प्राथमिक सदस्यता से तिवारी के इस्तीफे से सट्टा रिपोर्टों को अधिक बल मिला है। वे बताते हैं कि मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के नेतृत्व वाली पार्टी के कई नेता दल बदलने और भाजपा में शामिल होने के लिए तैयार हैं।

इस बीच, ममता बनर्जी ने आरोप लगाया है कि भाजपा टीएमसी सदस्यों को अपनी पार्टी से बाहर निकलने और भगवा खेमे में शामिल होने के लिए मनाने की कोशिश कर रही है।