समाचार
मेरठ हिंसा में पुलिस पर गोलियाँ चलाने वाला अनीस गिरफ्तार, पीएफआई से जुड़ा था

नागरिकता संसोधन अधिनियम (सीएए) को लेकर उत्तर प्रदेश के मेरठ में 20 दिसंबर को हुई हिंसा और पुलिस पर गोलियाँ चलाने वाले अनीस उर्फ खलीफा को गिरफ्तार कर लिया गया। पूछताछ में उसने बताया, “वह भाई की मौत का बदला लेने के लिए पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया (पीएफआई) से जुड़ा था।”

अमर उजाला की रिपोर्ट के अनुसार, अनीस ने पूछताछ में बताया, “1987 के दंगे में पुलिस ने उसके भाई रईस की हत्या कर दी थी। इसका बदला लेने के लिए उसने बीते दिनों हिंसा के दौरान पुलिस पर गोलियाँ चलाई थीं।” पुलिस ने आरोपी के पास से पिस्टल और तमंचा बरामद कर लिया है।

पुलिस के मुताबिक, आरोपी अनीस ने बताया, “1987 के दंगे में उसके भाई रईस की मौत हो गई थी। तभी से वह पुलिस के खिलाफ था। साल 2004 में अजय देवगन उर्फ पप्पू की हत्या के मामले में लिसाड़ीगेट थाने से जेल गया था। अयोध्या का फैसला आने के बाद वह पीएफआई से जुड़ गया था। पीएफआई के सदस्य मेरठ के लिसाड़ीगेट में घर-घर जाकर लोगों को उकसा रहे थे।”

पुलिस ने बताया, “20 दिसंबर को जुमे की नमाज के बाद पुलिस पर हमले की पूरी रणनीति तैयार की गई थी। इसमें खलीफा और सात-आठ युवकों को पुलिस पर गोलियाँ चलाने के लिए तैयार किया गया था।”