समाचार
आंध्र प्रदेश- तीन राजधानियों के विरोध पर विपक्षी नेता हिरासत में, अमरावती में प्रदर्शन
आईएएनएस - 20th January 2020

आंध्र प्रदेश में राज्य सरकार द्वारा विधानसभा के विशेष सत्र में तीन राजधानियों के प्रस्ताव पर अंतिम निर्णय की घोषणा को लेकर हो रहे विरोध प्रदर्शनों के चलते अमरावती और उसके आसपास के जिलों के कई विपक्षी नेताओं को सोमवार को हिरासत में लिया गया या उन्हें घर पर ही नजरबंद कर दिया गया।

अमरावती को आंध्र प्रदेश की एकमात्र राजधानी बनाए रखने के लिए मुख्य विपक्षी दल तेलुगु देशम पार्टी (तेदेपा) और संयुक्त लड़ाई समिति (जेएसी) के नेतृत्व में किसानों और अन्य ग्रामीणों ने “चलो विधानसभा ” का नारा लगाते हुए विधानसभा की ओर मार्च करने की कोशिश की, जिससे टुल्लुर गाँव में भारी तनाव फैल गया। महिलाओं सहित प्रदर्शनकारियों ने पुलिस बैरिकेड हटा दिए। उन्हें रोकने के लिए पुलिस बल का प्रयोग हुआ।

पुलिस ने सैकड़ों टीडीपी कार्यकर्ताओं और प्रदर्शनकारियों को हिरासत में लिया, जो विजयवाड़ा, कृष्णा के अन्य हिस्सों, गुंटूर, प्रकाशम और राज्य के अन्य जिलों से अमरावती पहुँचकर रैली निकालना चाहते थे। प्रदर्शनकारियों को विधानसभा की ओर जाने से रोकने के लिए अमरावती, विजयवाड़ा और आसपास के शहरों में हजारों पुलिसकर्मी तैनात किए गए।

विजयवाड़ा को अमरावती से जोड़ने वाली कृष्णा नदी के प्रकाशम बैराज में यातायात प्रतिबंधित कर दिया गया। पुलिस ने सचिवालय और विधानसभा के आसपास एक मजबूत सुरक्षा घेरा बनाया और कई सड़कों को सील कर दिया। कड़ी सुरक्षा के बीच मुख्यमंत्री वाईएस जगन मोहन रेड्डी सचिवालय पहुँचे और उन्होंने राज्य मंत्रिमंडल की अध्यक्षता की।

बता दें कि वाईएसआरसीपी सरकार ने अमरावती में विधानसभा को बरकरार रखते हुए विशाखापत्तनम को प्रशासनिक राजधानी और कुरनूल को न्यायिक राजधानी के रूप में विकसित करने का प्रस्ताव रखा। टीडीपी अध्यक्ष एन चंद्रबाबू नायडू ने सोमवार को राज्य के लिए काला दिन बताया। उन्होंने आरोप लगाया कि मुख्यमंत्री अपना वर्चस्व बनाने के लिए लोगों की सपनों की राजधानी को नष्ट कर रहे हैं।