समाचार
आंध्र प्रदेश के प्रोद्दुतुर शहर में टीपू सुल्तान की प्रतिमा लगाने पर भाजपा का विरोध जारी

टीपू सुल्तान की प्रतिमा लगाने की योजना के विरोध में कडप्पा जिले के प्रोद्दुतुर शहर में आंध्र प्रदेश की भाजपा राज्य इकाई ने सत्तारूढ़ वाईएसआरसीपी को योजना के साथ आगे बढ़ने पर गंभीर परिणामों को भुगतने की चेतावनी दी है।

प्रोद्दुतुर के मुस्लिम समुदाय ने मूर्ति स्थापित करने का प्रस्ताव रखा और स्थानीय वाईएसआरसीपी विधायक रचमल्लू शिव प्रसाद रेड्डी से उन्हें समर्थन मिल गया। हालाँकि, स्थानीय और भाजपा नेता इसका विरोध कर रहे हैं।

स्थानीय विधायक रचमल्लू शिव प्रसाद रेड्डी ने डेक्कन हेराल्ड को बताया, “अगर टीपू सुल्तान वास्तव में अत्याचारी और हिंदू उत्पीड़क था तो कर्नाटक में भाजपा सरकार बेंगलुरु और अन्य जगहों पर उसकी मूर्तियों को क्यों नहीं गिरा रही है?”

आंध्र प्रदेश के भाजपा सह प्रभारी सुनील देवधर ने कहा, “टीपू सुल्तान एक पूर्णतः बर्बर इस्लामिक कट्टरपंथी था। उसने अपने शासन के दौरान हिंदू की सभी चीजों को नष्ट कर दिया और बुरी तरह से उन पर अत्याचार किए। वाईएसआरसीपी नेताओं द्वारा उसकी प्रतिमा की स्थापना हिंदू भावनाओं को आहत करके तुष्टीकरण की राजनीति को दर्शाती है। मैं इस तरह के कृत्यों की कड़ी निंदा करता हूँ।”

स्थानीय लोगों और भाजपा नेताओं ने टीपू सुल्तान की बजाय एपीजे अब्दुल कलाम की मूर्ति स्थापित करने का सुझाव दिया। इस प्रस्ताव को प्रोद्दुतुर शहर के अन्य समुदायों से समर्थन मिला है, जो सोने के आभूषण के व्यवसाय के लिए पहचाने जाते हैं।