समाचार
एएमयू के छात्रों ने मशाल लेकर नागरिकता संशोधन विधेयक के विरोध में किया प्रदर्शन

नागरिकता संशोधन विधेयक के विरोध में अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय (एएमयू) के छात्रों ने मंगलवार रात को मौलाना आज़ाद लाइब्रेरी से लेकर विश्वविद्यालय तक मशाल जुलूस निकाला। इस दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह के खिलाफ नारेबाजी की गई। प्रदर्शनकारियों ने विधेयक की प्रतिमाएँ भी जला डालीं।

अमर उजाला की रिपोर्ट के अनुसार, छात्रों का कहना है कि बुधवार को डायनिंग का बहिष्कार करेंगे। मंगलवार देर रात जनरल बॉडी की बैठक बुलाई गई। इसमें दिल्ली जाने का भी ऐलान किया गया। प्रदर्शन के दौरान पुलिस से धक्का-मुक्की और अभद्रता के मामले में दो पूर्व छात्रसंघ अध्यक्षों सहित 20 नामजद और 700 अज्ञात पर मुकदमा दर्ज किया गया है।

एएमयू में मंगलवार रात को मशाल लेकर विधेयक के विरोध में छात्रों ने जुलूस निकाला। छात्रों ने एक सभा भी की। इसमें कहा गया, “विधेयक मौलिक अधिकार और संविधान की भावना के खिलाफ है। पूरी तरह मुस्लिम विरोधी है। हमारी अपील है कि राज्यसभा में सांसद इस बिल का समर्थन ना करें।”

एएमयू के प्रॉक्टर प्रोफेसर अफीफउल्लाह खान ने कहा, “छात्रों ने नागरिकता संशोधन विधेयक का विरोध किया है। इसी के चलते मार्च भी निकाला गया है। मार्च और प्रदर्शन शांतिपूर्ण रहा है।” कहा जा रहा है कि बुधवार को वह दिल्ली जाने और संसद भवन तक पहुँचकर विरोध प्रदर्शन करने की कोशिश करेंगे।