समाचार
अमित शाह का असम में बड़ा वादा- “निकाल देंगे बांग्लादेशी घुसपैठियों को”

भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के अध्यक्ष अमित शाह ने शुक्रवार (29 मार्च) को असम के कलियाबोर में रैली के दौरान यह वादा किया है कि अगर भाजपा की सरकार सत्ता में आती है तो असम में रहने वाले सभी अवैध बांग्लादेशी घुसपैठियों की पहचान की जाएगी।

अमित शाह ने कलियाबोर में हो रही विशाल रैली में कहा कि पिछले पांच सालों में बांग्लादेशी घुसपैठियों का प्रवेश बिलकुल रोक दिया गया है। साथ ही उन्होंने कहा, “अब बस असम में रह रहे बांग्लादेशी घुसपैठियों की पहचान करना बाकी है, हम वादा करते हैं अगले पाँच सालों में असम से एक-एक बांग्लादेशी को निकाल देंगे।”

शाह का कलियाबोर में रैली को संबोधित करना महत्त्वपूर्ण था क्योंकी भाजपा और असोम गण परिषद के बीच गठबंधन में यह सीट असोम गण परिषद को मिली है। असोम गण परिषद ने कलियाबोर में ऑल असम स्टूडेंट्स यूनियन की उपाध्यक्ष मोनी माधव को कांग्रेस के पूर्व मुख्य मंत्री तरुण गोगोई के बेटे गौरव गोगोई के खिलाफ खड़ा किया है।

रैली के दौरान शाह ने कांग्रेस पर आरोप लगाते हुए कहा कि कांग्रेस बांग्लादेशी घुसपैठियों को संरक्षण करती है और काज़ीरंगा राष्ट्रीय वन में रहने के लिए उन्हें प्रोत्साहित करती है।शाह ने कहा कि 1985 के असम समझौते सरकार ने कभी  किया लेकिन भाजपा ने समझौते महत्त्वपूर्ण खंड 6 को लागू करने की प्रतिक्रिया शुरू कर दी है।

विभिन्न योजनाओं के बारे में बताते हुए शाह ने बताया कि पिछले पांच सालों में लगभग 4.5 लाख करोड़ रुपये को असम के लिए लगाया गया है जबकि कांग्रेस को देखे तो उन्होंने अपने कार्यकाल में मात्र 50,000 करोड़ रुपये लगाए थे। साथ ही शाह ने असम को आश्वासन दिया कि आने वाले समय में मोदी सरकार असम और उत्तर पूर्वी भारत को ज़्यादा प्राथमिकता देगी।