समाचार
फाइज़र डेल्टा प्रकार की वृद्धि पर बूस्टर खुराक के लिए यूएस एफडीए से अनुमति मांगेगी

अमेरिका आधारित फार्मास्युटिकल की बड़ी कंपनी फाइज़र कोविड-19 के डेल्टा प्रकार के मामलों में वृद्धि के बीच अपने एमआरएनए कोविड-19 वैक्सीन की तीसरी बूस्टर खुराक के लिए यूएस औषधि नियामक की अनुमति लेगी।

इसकी आवश्यकता तब पड़ी, जब इज़राइल में हाल ही के एक अध्ययन के आँकड़ों से पता चला कि फाइज़र के टीके की प्रभावकारिता कोविड-19 के डेल्टा प्रकार के विरुद्ध कम हो जाती है। हालाँकि, अध्ययन ने कहा कि टीका अब भी तेज़ी से प्रसार होने वाली महामारी से बचाता है।

फाइज़र ने कथित तौर पर अगस्त में कोविड-19 वैक्सीन की तीसरी बूस्टर खुराक के लिए एफडीए की अनुमति लेने की योजना बनाई है। कंपनी ने गुरुवार (8 जुलाई) को कहा कि 12 महीनों के भीतर तीसरी खुराक नाटकीय रूप से प्रतिरक्षा को बढ़ा सकती है और डेल्टा प्रकार को समाप्त करने में सहायता कर सकती है।

फाइज़र के डॉ मिकेल डोलस्टन के अनुसार, कंपनी के बूस्टर अध्ययन के शुरुआती आँकड़ों में जानकारी मिली है कि महीनों पहले ली गई दूसरी खुराक की तुलना में लोगों के एंटीबॉडी का स्तर तीसरी खुराक के बाद पाँच से 10 गुना तक बढ़ जाता है।

हालाँकि, अमेरिकी स्वास्थ्य अधिकारियों ने कहा कि पूरी तरह से टीका लगाए गए अमेरिकियों को अभी तक बूस्टर की आवश्यकता नहीं है।

एफडीए और सीडीसी के एक संयुक्त बयान के अनुसार, “अमेरिकी स्वास्थ्य एजेंसियाँ ​एक बूस्टर की आवश्यकता हो सकती है या नहीं, इस पर विचार करने के लिए एक विज्ञान आधारित, कठोर प्रक्रिया में लगी है। बूस्टर की खुराक पर कोई भी निर्णय तब होगा, जब विज्ञान साबित करे कि उसकी आवश्यकता है।”