समाचार
लॉकडाउन के बावजूद उत्तर प्रदेश में चीनी का 123 लाख टन का रिकॉर्ड उत्पादन

कोविड-19 की वजह से करीब दो महीने के लॉकडाउन के बावजूद उत्तर प्रदेश की चीनी मिलों ने चालू पेराई सत्र में 123 लाख टन से अधिक का रिकॉर्ड उत्पादन किया है।

टाइम्स ऑफ इंडिया की रिपोर्ट के अनुसार, जहाँ हर जगह लॉकडाउन की वजह से अर्थव्यवस्था पर गहरी चोट पड़ी है, वहीं यूपी में चीनी क्षेत्र से उत्कृष्ट उत्पादन निकलकर आ रहा है। इसके अलावा, यह आँकड़ा किसी भी सत्र में देश के किसी भी राज्य द्वारा प्राप्त चीनी के उच्चतम उत्पादन को दर्शाता है।

वर्तमान सत्र में उत्पादन पिछले सत्र की इसी अवधि के दौरान 117 लाख टन चीनी की तुलना में करीब छह लाख टन अधिक है। इस सत्र में हासिल होने वाला उत्पादन और भी बढ़ सकता है क्योंकि राज्य की 119 चीनी मिलों में से 39 अब भी चल रही हैं, जबकि 10 दिन का सत्र और शेष है। खासतौर पर यूपी में अक्टूबर से मई तक गन्ना पेराई सत्र चलता है।

पिछले सर्वश्रेष्ठ उत्पादन का आँकड़ा भी उत्तर प्रदेश सरकार ने 2017-18 के सत्र में ही हासिल किया था। उस वक्त चीनी का कुल उत्पादन 120.45 लाख टन हुआ था।

बता दें कि उत्तर प्रदेश ने अपना चीनी उत्पादन बढ़ा दिया है। वहीं, चालू सत्र में राष्ट्रीय उत्पादन करीब 62 लाख टन के करीब गिर गया है। पिछले सत्र में यह आँकड़ा 326 लाख टन था, जबकि इस वर्ष उत्पादन 264 लाख टन है। अकेले उत्तर प्रदेश राज्य ने इस मौसम में अब तक के राष्ट्रीय उत्पादन का 47 प्रतिशत हिस्सा पूरा कर लिया है।