समाचार
आतंकी हाफिज़ सईद की गिरफ्तारी को लेकर पाकिस्तान की मंशा पर अमेरिका को है शक

अमेरिका को मुंबई हमले के मास्टरमाइंड आतंकी हाफिज़ सईद की गिरफ्तारी को लेकर पाकिस्तान की मंशा पर शक है। ट्रंप प्रशासन ने कहा, “हाफिज की पिछली गिरफ्तारियों से भी उसकी आतंकी गतिविधियों पर फर्क नहीं पड़ा था।”

दैनिक भास्कर की रिपोर्ट के अनुसार, ट्रंप प्रशासन के एक अफसर ने कहा, “हमने पहले भी हाफिज़ सईद को गिरफ्तार होते हुए देखा है। इस बार हम दिखावे वाली कार्रवाई की जगह मज़बूत कदम उठाना चाहते थे।”

पाकिस्तान की मंशा के सवाल पर अधिकार ने कहा, “हम इतिहास देख चुके हैं। हम ज़रा भी भ्रम की स्थिति में नहीं हैं। पाकिस्तान की मिलिट्री इंटेलिजेंस सर्विस (आईएसआई) पहले भी इन संगठनों की मदद करती रही है। यही वजह है कि हम मजबूत कार्रवाई होती हुई देखना चाहते हैं।”

आईएसआई और आतंकी संगठनों के रिश्तों के सवाल पर अधिकारी ने कहा, “सिर्फ हाफिज ही नहीं बल्कि लश्कर-ए-तैयबा जैसे संगठनों पर कार्रवाई के बावजूद वो बिना किसी परेशानी के चलते रहे हैं। हम इस बार मामले में अपनी आँखें गड़ाए हुए हैं।”

मालूम हो कि अंतर्राष्ट्रीय दबावों की वजह से आतंकी हाफिज़ सईद को अब तक करीब 7 बार गिरफ्तार किया जा चुका है। अमेरिका चिंतित है कि जैश-ए-मोहम्मद, लश्कर और हक्कानी नेटवर्क जैसे संगठन पाक की जमीन से सक्रिय हैं और वहाँ की खुफिया एजेंसी उनकी मदद कर रही है।