समाचार
अमेरिका ने पाकिस्तान व चीन को धार्मिक स्वंत्रता के उल्लंघन वाले देशों की सूची में डाला

अमेरिका ने पाकिस्तान और चीन को उन देशों की सूची में रखा है, जहाँ धार्मिक स्वतंत्रता का उल्लंघन किया जाता है। अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पोम्पियो ने कहा, “म्यांमार, इरिट्रिया, ईरान, नाइजीरिया, उत्तर कोरिया, सऊदी अरब, तजाकिस्तान और तुर्कमेनिस्तान को भी उसी सूची में रखा गया है, जो धार्मिक स्वतंत्रता के उल्लंघन में लिप्त हैं।”

जनसत्ता की रिपोर्ट के अनुसार, अमेरिकी विदेश विभाग ने कोमोरोस, क्यूबा, निकारागुआ और रूस को धार्मिक उल्लंघन के मामले में विशेष निगरानी सूची में डाला है, जहाँ की सरकारें धार्मिक स्वतंत्रता के गंभीर उल्लंघन में लिप्त हैं।

पोम्पियो ने कहा, “धार्मिक स्वतंत्रता एक अहस्तांतरणीय और मुक्त समाजों का अधिकार हैं, जिन पर वे फलते-फूलते हैं। अमेरिका ने एक बार फिर उन लोगों की रक्षा के लिए कदम उठाया है, जो यह स्वतंत्रता चाहते हैं।”

उन्होंने कहा, “सूडान और उज्बेकिस्तान की सरकारों ने एक वर्ष के दौरान उल्लेखनीय प्रगति की है, जिसकी वजह से उन्हें विशेष निगरानी सूची से हटा दिया गया है। कानून संबंधी सुधारों के चलते ये देश अन्य के लिए आदर्श उदाहरण हैं।”

अंतरराष्ट्रीय धार्मिक स्वतंत्रता संबंधी अमेरिकी आयोग ने विदेश विभाग द्वारा 10 देशों को विशेष चिंता का विषय बने देशों की सूची में डालने के कदम की सराहना की है। विदेश विभाग ने आयोग द्वारा भारत, रूस, सीरिया और वियतनाम को सीपीसी सूची में डालने की सिफारिश स्वीकार नहीं की है।

इसके अलावा, अमेरिका ने अल शबाब, अल कायदा, बोको हराम, हयात-तहरीर-अल-शम, हूथी, आईएसआईएस, आईएसआईएस-ग्रेटर सहारा, आईएसआईएस- वेस्ट अफ्रीका, जमात नासर अल इस्लावल मुस्लिमिन और तालिबान को विशेष चिंता का विषय बने संगठन बताया।