समाचार
चीन पर एक बार फिर अमेरिका सहित अन्य देशों का दबाव, अज़हर को घोषित करे आतंकी

पाकिस्तानी आतंकवादी संगठन जैश-ए-मोहम्मद के प्रमुख मसूद अज़हर को वैश्विक आतंकियों की सूची में शामिल करने के लिए अमेरिका, फ्रांस और ब्रिटेन ने एक बार फिर चीन पर दबाव डाला है। मसूद अज़हर पर प्रतिबन्ध लगाने के लिए  एक बार फिर ये तीनो देश एक साथ सामने आए हैं और चीन को तकनीकी बाधा हटाने के लिए कहा है।

अमर उजाला की रिपोर्ट में बताया गया है कि आने वाले कुछ दिनों में सुरक्षा परिषद् की यूएनएससी 1267 प्रतिबन्ध समिति मसूद अज़हर के खिलाफ प्रस्ताव पेश कर सकती है। खबर है कि चीन को 23 अप्रैल तक तकनीकी बाधा हटाने का समय दिया गया है। हालाँकि इस प्रस्ताव की खबर के बाद चीन के रवैये में अभी तक किसी भी प्रकार का बदलाव नहीं देखा गया है।

आपको बता दें कि मसूद अज़हर पर प्रतिबन्ध लगने के बाद उसकी विदेशी यात्रा को बंद करदिया जाएगा साथ ही उसकी सारी संपत्ति को ज़ब्त कर लिया जाएगा। 14 फरवरी को पुलवामा में सीआरपीएफ के काफिले पर हुए आतंकी हमले में मसूद अज़हर हाथ था जिसके बाद उसे वैश्विक आतंकी घोषित करने के लिए प्रयास किया  जा रहा है।